जासं, गाजियाबाद : गगन एंक्लेव में रहने वाली सरकारी स्कूल की शिक्षिका श्वेता दीक्षित का सांप सीढ़ी खेल के माध्यम से लाभ-हानि समझाने का तरीका यूनिसेफ को पसंद आया है। इस पद्धति को यूनिसेफ ने अपने शैक्षणिक कैलेंडर में स्थान दिया। यह गाजियाबाद के लिए गौरव का विषय है।

श्वेता दीक्षित बुलंदशहर के प्राथमिक विद्यालय सलेमपुर कायस्थ में शिक्षिका हैं। उन्होंने बताया कि सभी बच्चे घरों में सांप सीढ़ी का खेल खेलते हैं। खेल में सीढ़ी चढ़ने पर लाभ होता है और सांप के काटने पर हानि। सीढ़ी चढ़कर जहां तक पहुंचते हैं, उन दोनों अंकों के बीच के अंतर को उतना लाभ माना जाता है। सांप के काटने पर जितने पायदान नीचे आते हैं, उतनी हानि मानी जाती है। पूरे खेल के आधार पर बच्चों को लाभ हानि आसान और रोचक तरीके से समझाने के लिए उन्होंने यह फॉर्मूला बनाया। सांप सीढ़ी की पेंटिग और थ्योरी पर बनाए फॉर्मूले को उन्होंने यूनिसेफ को मेल किया था। दो जुलाई को यूनिसेफ ने अपने शैक्षणिक कैलेंडर में इस फॉर्मूले को प्रकाशित किया है। श्वेता शैक्षणिक क्रियाकलापों में पहले से भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेती रही हैं। इससे पहले उन्होंने पुलिस प्रशासन के साथ मिलकर महिला आत्मरक्षा प्रशिक्षण कार्यक्रम में छात्राओं को प्रशिक्षण दिया था। इसके लिए श्वेता दीक्षित को विभाग की ओर से जिला और प्रदेश स्तर पर सम्मानित किया गया था। श्वेता दीक्षित ने बताया सभी कार्यो के लिए उनके पति हमेशा उनका हौसला बढ़ाते हैं।

Posted By: Jagran

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस