जागरण संवाददाता, गाजियाबाद : विजयनगर थाना क्षेत्र के सिद्धार्थ विहार स्थित प्रतीक ग्रांड कार्नेसिया सोसायटी की 25वीं मंजिल से संदिग्ध परिस्थितियों में गिरकर शनिवार रात दो जुड़वा बच्चों सूर्यनारायण व सत्यनारायण (14 वर्ष ) की मौत हो गई। घटना के समय बच्चों के पिता काम के सिलसिले में मुंबई गए थे। मां, बेटी के साथ दूसरे कमरे में सो रही थीं। सोसायटी के सुरक्षाकर्मियों के शोर पर उन्हें बच्चों के गिरने की जानकारी हुई। पुलिस ने दोनों के शव पोस्टमार्टम कराया है। अभी तक हादसे के कारणों का पता नहीं चल सका है।

प्रतीक ग्रांड सोसायटी की 25वीं मंजिल पर मूलरूप से चेन्नई निवासी टीएस पलानी मदुराई पत्नी राधा, बेटी गायत्री और 14 साल के दो जुड़वा बेटे सूर्य नारायण और सत्य नारायण के साथ रहते थे। टीएस पलानी एक निजी कंपनी में एडमिन हेड हैं। पुलिस के मुताबिक, शनिवार रात करीब 12 बजे राधा और गायत्री कमरे में थीं। सत्य नारायण व सूर्य नारायण पढ़ते हुए बालकनी में जाकर खेलने लगे। मां ने दोनों को पानी दिया और अंदर आकर सोने के लिए कहा। बच्चों ने कहा कि उन्हें चांद देखना है। वह चांद देखकर भीतर आएंगे। इस पर मां ने डांटा तो वह कमरे में आ गए, लेकिन मां के सोते ही दोनों फिर से बालकनी में पहुंच गए।

कुछ ही देर बाद दोनों संदिग्ध हालात में एक साथ नीचे गिरे। सुरक्षाकर्मियों ने सोसायटी परिसर में गिरने की आवाज सुनकर देखा तो दोनों बच्चे जमीन पर पड़े मिले। दोनों की मौके पर ही मौत हो चुकी थी। सुरक्षाकर्मियों ने दौड़कर राधा और उनकी बेटी गायत्री को जगाया और हादसे की जानकारी दी। कुछ ही देर में सोसायटी में भीड़ जुट गई। सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने घटना की जांच की। पुलिस को अब तक तहरीर नहीं मिली है। थाना प्रभारी योगेंद्र सिंह का कहना है कि प्रथम²ष्टया मामला हादसे का प्रतीत हो रहा है। सोसायटी के सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली जा रही है। आनलाइन गेम खेलते वक्त हादसे की आशंका: अब आशंका यह भी जताई जा रही है कि कहीं बच्चे खतरनाक आनलाइन गेम पबजी का शिकार तो नहीं हो गए। हालांकि पुलिस ने दोनों बच्चों के मोबाइल फोन चेक किए, तो इसमें कोई गेम हिस्ट्री नहीं मिली है। यह भी आशंका जताई जा रही है कि कहीं सेल्फी और वीडियो बनाने के चक्कर में तो वे नीचे नहीं गिरे। कई सवालों का नहीं मिला जवाब

दोनों बच्चों की लंबाई करीब पांच फीट के आसपास थी, जबकि ग्रिल की ऊंचाई चार फीट थी। ऐसे में उन्हें नीचे झांकने या ऊपर देखने के लिए कुर्सी पर स्टूल रखकर चढ़ने की जरुरत क्यों पड़ी, इसका जवाब न तो पुलिस के पास है और न ही स्वजन ही कुछ बता पा रहे हैं। घटना के समय मां और बहन भीतर सो रही थीं और घटनास्थल पर कोई भी नहीं था। दोनों बच्चों ने ऐसा क्यों किया यह रहस्य बना हुआ है और घटना को लेकर सिर्फ आशंकाएं ही जताई जा रही हैं।

Edited By: Jagran