जागरण संवाददाता, गाजियाबाद : कविनगर थानाक्षेत्र के पॉश इलाके राजनगर स्थित लोहा कारोबारी के घर से लाखों की चोरी करने की घटना सामने आई है। चोर पड़ोसी के घर से खिड़की तोड़कर अंदर दाखिल हुए और घर में सो रहे लोगों पर बेहोशी की दवा स्प्रे कर दी फिर वारदात को अंजाम दिया। आरोपित भारी मात्रा में गहने और दो लाख रुपये नकदी चोरी कर ले गए। चोरी गए गहनों की कीमत एक से डेढ़ करोड़ रुपये बताई जा रही है। पीड़ित परिवार गहनों के मूल्य के संबंध में ठीक-ठीक कुछ बता पाने की स्थिति में नहीं है। पीड़ित ने किसी करीबी पर शक जताया है। सूचना के बाद पहुंची पुलिस ने घर का मुआयना कर जांच की। एसएचओ कविनगर राजकुमार शर्मा का कहना है कि मौके से फॉरेंसिक टीम ने साक्ष्य जुटाए हैं। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपितों की पहचान कर जल्द गिरफ्तारी की जाएगी।

राजनगर के सेक्टर-12 में रहने वाले राजेश अग्रवाल की बुलंदशहर रोड औद्योगिक क्षेत्र में इंजीनियरिग फर्म है। वह दो प्ले स्कूल भी चलाते हैं। परिवार में पत्नी उर्मिला, बेटा अंकुर, उनकी पत्नी व दो बच्चे हैं। अंकुर भी उनके साथ फर्म और स्कूल प्रबंधन का काम देखते हैं। राजेश के मुताबिक परिवार के सभी लोग अपने-अपने कमरों में सो रहे थे। सुबह उठे तो उनके कमरे में रखी अलमारी का ताला टूटा मिला। उस आलमारी में घर में चालीस-पैंतालीस साल में हुई शादियों के जेवरात रखे थे। चोर सारे आभूषण उठा ले गए। लॉबी में अंकुर के लैपटॉप का बैग रखा था। इसमें करीब दो लाख रुपये नकद रखे थे। चोर लैपटॉप छोड़कर दो लाख रुपये निकाल ले गए। राजेश का कहना है कि चोरों ने उन्हें बेहोश कर दिया था। चोर उनके कमरे में ताला आदि तोड़ते रहे, लेकिन वह बेहोश रहे। वारदात आधी रात के बाद करीब एक बजे की है। करीब साढ़े तीन घंटे बाद उन्हें होश आया। पड़ोसी के घर से घुसे

राजेश के मुताबिक घर के मुख्य द्वार पर लगा ताला सही तरीके से बंद मिला। उनके ही कमरे की एक खिड़की टूटी मिली। यह खिड़की पड़ोसी के घर की ओर खुलती है। आशंका है कि चोर पड़ोसी के घर की चारदिवारी फांदकर अंदर आए और फिर खिड़की तोड़कर उनके घर घुसे।

घर पर काम करने वाला दंपती एक माह से छुट्टी पर

राजेश का कहना है कि घर पर काम करने वाला दंपती एक माह से छुट्टी पर है। बीते एक सप्ताह से घर में लगे एसी की भी सर्विस चल रही है। उनका कहना है कि पड़ोसी के घर में घुसने के बाद भी चोरों ने उन्हीं के घर को निशाना बनाया। आशंका है कि चोरी में किसी करीबी का ही हाथ है। चोरों को उनके घर की स्थिति पता थी।

खराब पड़े सीसीसीटीवी

सूचना के बाद जांच के लिए पहुंची पुलिस की टीम ने उनके घर में लगे सीसीटीवी कैमरे देखने को कहा तो वे खराब मिले। राजेश ने बताया कि कैमरे 20 दिन से खराब हैं। फिलहाल एसी का काम चल रहा था। इसके बाद सीसीटीवी कैमरे ठीक कराने को कहा था। यदि जरा भी आशंका होती तो पहले कैमरे ही ठीक करा लेता।

सूचना के आधार पर टीम ने मौके पर जाकर जांच की है। फॉरेंसिक टीम ने साक्ष्य जुटाए हैं। कारोबारी के घर लगे कैमरे खराब थे। आसपास के घरों में लगे कैमरे खंगाले जा रहे हैं। आरोपितों की पहचान कर जल्द गिरफ्तारी की जाएगी।

- राजकुमार शर्मा, एसएचओ, कविनगर।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस