जागरण संवाददाता, गाजियाबाद : रैपिड रेल के साहिबाबाद स्टेशन, नोएडा से मोहननगर रूट पर वसुंधरा सेक्टर-2 मेट्रो फेज तीन के स्टेशन की दूरी 600 मीटर कम की गई है। इन दोनों स्टेशनों के बीच सिर्फ 200 मीटर रह गई है। यह स्टेशन फुटओवर ब्रिज से जुड़ेंगे, ताकि सड़क के ऊपर से यात्री एक स्टेशन से दूसरे तक पहुंच सके।

दिल्ली से मेरठ तक रैपिड रेल कॉरिडोर बनना शुरू हो गया है। इस कॉरिडोर में साहिबाबाद स्टेशन प्रस्तावित है। वहीं, नोएडा इलेक्ट्रानिक सिटी से मोहननगर तक मेट्रो फेज तीन प्रोजेक्ट तैयार होगा। डीएमआरसी ने इस प्रोजेक्ट की जो डीपीआर तैयार की उसमें मेट्रो वसुंधरा सेक्टर दो स्टेशन और रैपिड रेल के साहिबाबाद स्टेशन के बीच 800 मीटर की दूरी थी, लेकिन जीडीए इन दोनों स्टेशनों को इंटरचेंज बना रहा है। इसके लिए प्राधिकरण ने डीएमआरसी से संशोधित डीपीआर तैयार कराई है। जीडीए के अधिकारियों का कहना है कि डीएमआरसी ने संशोधित डीपीआर तैयार कर दी है, जिसे वह जल्द प्राधिकरण को सौंपेगा। हालांकि संशोधित डीपीआर में मेट्रो फेज-3 के अलाइमेंट में परिवर्तन किया गया है। अब मेट्रो वसुंधरा सेक्टर दो के स्टेशन का स्थान में परिवर्तन किया गया है। अब यह स्टेशन रैपिड रेल के साहिबाबाद स्टेशन से करीब 200 मीटर दूरी पर बनाया जाएगा। ताकि इन दोनों स्टेशनों के बीच फुटओवर ब्रिज बनाया जा सके और यात्री एक स्टेशन से दूसरे पर जा सके। लंबाई बढ़ सकती है

नोएडा इलेक्ट्रानिक सिटी तक मेट्रो का संचालन है। अब इसके आगे मोहननगर तक बढ़ाया जा रहा है। इस ट्रैक की लंबाई 5.11 किमी लंबी है, लेकिन अलाइमेंट में परिवर्तन होने के कारण लंबाई बढ़ सकती है। इस प्रोजेक्ट की लागत 1866 करोड़ रुपये है।

नोएडा-मोहननगर मेट्रो प्रोजेक्ट के अलाइमेंट में परिवर्तन किया है। वसुंधरा सेक्टर दो स्टेशन का स्थान बदला गया है। पहले रैपिड रेल का साहिबाबाद स्टेशन करीब 800 मीटर दूरी पर था, जो अब 200 मीटर रह गया है। इन्हें फुटओवर ब्रिज से जोड़ा जाएगा। ताकि यात्रियों को परेशानी न हो।

-कंचन वर्मा, वीसी जीडीए

Edited By: Jagran