जागरण संवाददाता, गाजियाबाद : मंगलवार की सुबह को राजनगर में सीसीटीवी फुटेज में घूमता दिखा तेंदुआ सात दिन से भूखा घूम रहा है। वन विभाग ने इसकी पुष्टि की है। सर्च आपरेशन में मिला है कि 20 स्थानों पर कहीं से भी कोई ऐसा अवशेष नहीं मिला, ताकि पता चले कि तेंदु्आ ने कुछ खाया है। अधिकारियों का कहना है कि कुत्ता, खरगोश, बकरी अन्य पशु के अवशेष कहीं नहीं मिले है। सुरक्षा की ²ष्टि से शासन के आदेश पर वन विभाग आगरा, मेरठ, नोएडा, दिल्ली और गाजियाबाद की टीमें संयुक्त रूप से तेंदुआ को सुरक्षित पकड़ने के लिए दिन-रात सर्च आपरेशन में जुटी हुई हैं।

रविवार देर रात को तेंदुआ मसूरी गंगनहर की तरफ जाता दिखा, तो आसपास के लोगों में खलबली मच गई। तुरंत इसकी सूचना स्थानीय पुलिस के अलावा वन विभाग को दी गई। वन विभाग के रेंजर अशोक कुमार गुप्ता ने इसकी पुष्टि की है कि तेंदुआ मसूरी गंगनहर के किनारे घूमता दिखा है। चार टीमों ने मसूरी गंगनहर के पांच किलोमीटर के दायरे में चार घंटे तक कांबिग की लेकिन तेंदुआ का कोई सुराग नहीं मिला। टीम वापस प्रेमकुमार गोगी फार्म हाउस में छानबीन में जुट गई है। वन विभाग के उच्च अधिकारियों का कहना है कि अब लोग दहशत के चलते कुत्ते और बिल्ली को भी तेंदुआ समझकर शिकायत कर रहे हैं। ड्रोन कैमरे से भी तेंदुए को सर्च किया जा रहा है। भूख व डर से तेंदुआ इधर-उधर शिकार की तलाश में घूम रहा है। तेंदुआ के डासना और मसूरी में सक्रिय होने से आसपास के स्कूलों व मदरसों में भी सतर्कता बरतने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

शूटर शमशेर ने मांगी तेंदुआ पकड़ने की अनुमति : भारतीय किसान यूनियन के नेता एवं शूटर शमशेर राणा ने अपर जिला अधिकारी (नगर) विपिन कुमार को पत्र भेजकर तेंदुआ पकड़ने की अनुमति मांगी है। पत्र में उन्होंने लिखा है कि वन विभाग के पास कम संसाधन हैं। पत्र में उन्होंने दावा किया है कि वह जूडो कराटे में ब्लैक बैल्ट, क्रास कंट्री, मैराथन धावक तथा घुड़सवारी में निपुण होने के साथ अखिल भारतीय स्तर के बाक्सर हैं। वन विभाग की टीम के साथ मिलकर तेंदुए को पकड़ने में शारीरिक रूप से खुद को सक्षम बताया है। खेत में काम करते समय तेंदुआ देखा तो डर गई। वहां से भागकर घर आ गई। घर से बाहर निकलना बंद कर दिया है।

- रामबती, आध्यात्मिक नगर।

--------

फार्म हाउस में वन विभाग की टीम पर हमला करते तेंदुआ का वीडियो बनाया, लेकिन डरते हुए नजदीक जाकर फोटो न खींचने का मलाल है।

-शिखर शर्मा, आध्यात्मिक नगर।

--------

तेंदुआ को सुरक्षित पकड़ने के लिए टीमें लगातार सर्च आपरेशन चला रहीं हैं। पिजरा लगाकर टीम दिन-रात पहरा दे रहीं हैं। घर से बाहर न निकलें। बच्चों और बुजुर्गों को बाहर न निकलने दें। अफवाहों पर ध्यान न दें।

-दीक्षा भंडारी,प्रभागीय निदेशक, सामाजिक वानिकी प्रभाग।

Edited By: Jagran