जासं, गाजियाबाद: नगर निगम ने शहर में मुख्य मार्गों पर लगीं स्ट्रीट लाइट बदलने का निर्णय लिया है। दो बार टेंडर आमंत्रित किए गए लेकिन टेंडर में प्रतिभाग करने वाली कंपनियां नगर निगम की शर्तों को पूरा नहीं कर सकी हैं। ऐसे में अब नगर निगम के पथ प्रकाश विभाग के अधिकारी भारत सरकार की कंपनी से स्ट्रीट लाइट खरीदने पर विचार कर रहा है, हालांकि अंतिम निर्णय नगर आयुक्त और महापौर की सहमति से लिया जाएगा। अपर नगर आयुक्त शिवपूजन यादव ने बताया कि शहर में छह हजार पोल लगाने और करीब 25 हजार स्ट्रीट लाइट बदलने का कार्य प्रस्तावित है। क्योंकि मुख्य मार्गों पर लगीं स्ट्रीट लाइट 100 वाट की हैं, उनसे सड़क पर पर्याप्त प्रकाश नहीं हो पाता है। जीटी रोड, मेरठ रोड, लिक रोड, मोहन नगर से वसुंधरा की ओर जाने वाला मार्ग, हापुड़ रोड पर लगी स्ट्रीट लाइट को बदला जाएगा। उनके स्थान पर 150 वाट की स्ट्रीट लाइट लगाई जाएंगी। यह कार्य नवरात्र से पहले पूरा कराया जाएगा। जिससे कि दीपावली तक शहर की प्रत्येक सड़क स्ट्रीट लाइट से जगमग रहे। एजेंसी करेगी देखरेख: अपर नगर आयुक्त ने बताया कि शहर में स्ट्रीट लाइट लगाने का कार्य पूरा करने के बाद इसकी देखरेख का जिम्मा एक प्राइवेट एजेंसी को सौंपा जाएगा। जिससे कि जहां स्ट्रीट लाइट खराब हो, वहां 24 घंटे के अंदर लाइट को ठीक कराने या जरूरत पड़ने पर उसे बदलवाने का कार्य कराया जा सके, ऐसे में सड़कों पर अंधेरा नहीं होगा। दैनिक जागरण ने चलाया था अभियान: दैनिक जागरण ने स्ट्रीट लाइट बंद होने के कारण शहर में सड़कों पर अंधेरा होने का अभियान चलाया था, जिसके बाद नगर निगम ने स्ट्रीट लाइट ठीक कराईं और स्ट्रीट लाइटों को बदलने का निर्णय लिया था।

Edited By: Jagran