जासं, गाजियाबाद : नि:संतान ममेरी बहन को अपना बच्चा देना महिला को भारी पड़ गया। आरोप है कि बहन नौकरी के कारण बच्चे का ख्याल नहीं रख पाई। इस कारण वह बीमार रहने लगा है। पूरे दिन रोता रहता है। पीड़िता ने बच्चा लौटाने को कहा तो आरोपित 4.20 लाख रुपये की रंगदारी मांग रही है। सिहानी गेट थाना पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

एक एनजीओ के एरिया इंचार्ज पत्नी व दो बच्चों संग सिहानी गेट क्षेत्र में रहते हैं। पत्नी ने बताया कि ममेरी बहन 12 साल से नि:संतान है और एक सीए के कार्यालय में जॉब करती है। बीते साल मामी की मौत के बाद दिल्ली में रहने वाली ममेरी बहन का उनके घर आना-जाना बढ़ गया। कुछ समय बाद वह गर्भवती हुईं और 27 नवंबर 2019 को एक पुत्र को जन्म दिया। बहन के कहने व अन्य रिश्तेदारों के दबाव में आकर पीड़िता ने 30 नवंबर को बेटा बहन को दे दिया। आरोप है कि नौकरी के चक्कर में बहन बच्चे का ख्याल नहीं रख रही है। इस कारण वह बीमार रहने लगा है। दो माह के बच्चे का ध्यान रखने वाला कोई नहीं है। उन्होंने बेटा लौटाने को कहा तो बहन से 4.20 लाख रुपये की मांग रख दी। एसएचओ गजेंद्र पाल सिंह ने बताया कि रंगदारी मांगने की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर जांच की जा रही है। सीडब्ल्यूसी को भी इसकी सूचना दी गई है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस