जागरण संवाददाता, गाजियाबाद : लापता बेटी को बरामद करने की गुहार लेकर शनिवार सुबह एसएसपी कार्यालय पहुंचे फरियादी ने अधिकारी से न मिलने देने पर हंगामा किया और अपने कपड़े उतार दिए। पुलिसकर्मी गाड़ी में बैठाने लगे तो वह पूरी तरह निर्वस्त्र हो गया। कविनगर थाना पहुंचने पर तमाम मिन्नतों के बाद भी व्यक्ति ने कपड़े नहीं पहने। इसके बाद उसे सिहानी गेट थाना ले गए तो यहां भी व्यक्ति ने पुलिसकर्मियों की नहीं सुनी। उक्त व्यक्ति लगातार पुलिसकर्मियों से गाली-गलौज करता रहा। दोपहर बाद करीब तीन बजे उसके स्वजन पहुंचे और उसे समझा-बुझाकर अपने साथ ले गए।

-----

यह है मामला

सिहानी गेट क्षेत्र निवासी व्यक्ति का कहना है कि वह कैंसर पीड़ित हैं। इसलिए उन्होंने दोनों बेटियों की शादी बुलंदशहर में रहने वाले दो भाइयों से तय की थी। 15 नवंबर को सगाई के बाद उनके यहां दो साल से किराये पर रहने वाले युवक ने लड़का पक्ष के लोगों को हत्या की धमकी देनी शुरू कर दी। उन्होंने आरोपित को कमरे से निकाल दिया, जिसके बाद 24 नवंबर को आरोपित उनकी छोटी बेटी को बहलाकर घर में रखे गहने व रुपये लेकर अपने साथ ले गया। आरोप है कि केस दर्ज करने के बाद पुलिस आरोपितों का साथ देने लगी। उनकी बेटी को अब तक बरामद नहीं किया है।

-----

देता रहा गाली, मूक बनी रही पुलिस व्यक्ति का कहना है कि पुलिसकर्मियों ने उसे अधिकारियों से नहीं मिलने दिया। उसने दबाव दिया तो कपड़े उतारकर बुरी तरह पीटा। मौके पर पहुंची पीसी-12 के पुलिसकर्मियों ने बताया कि उन्हें व्यक्ति अ‌र्द्धनग्न हालत में मिला था और गाड़ी में बैठाते ही वह पूरी तरह निर्वस्त्र हो गया। काफी समझाने पर भी कपड़े नहीं पहने। थाना कविनगर और सिहानी गेट के एसएसआइ प्रभाकर सिंह समेत दर्जनों पुलिसकर्मी बार-बार समझाने की कोशिश करते रहे, लेकिन उक्त व्यक्ति घूस लेने का आरोप लगा पुलिसकर्मियों को गाली देता रहा। इस दौरान पुलिसकर्मी मूकदर्शक बने रहे।

-----

शादी कर भिजवाया प्रमाण-पत्र

विवेचक पम्मी चौधरी का कहना है कि दोनों के मोबाइल घटना के दिन से ही स्विच आफ हैं। उन्होंने डाक के माध्यम से थाना सिहानी गेट और अपने माता-पिता के घर शादी का प्रमाण-पत्र भिजवाया है। पम्मी चौधरी के मुताबिक डाक विभाग से डाकघर का पता कर रहे हैं। दोनों को जल्द बरामद कर कोर्ट के समक्ष पेश करेंगे।

Edited By: Jagran