संवाद सहयोगी, मोदीनगर :

गांव आबिदपुर मानकी में हुए हारून हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने में सीडीआर( काल डिटेल रिकार्ड) पुलिस के लिए सहायक साबित हो रही है। आरोपितों के बारे में काफी जानकारी पुलिस को मिली है। वारदात से पहले हत्यारोपितों ने फोन कर हारून को अपने पास बुलाया था। ऐसे में पुलिस के लिए हत्यारोपितों तक पहुंचना आसान हो गया है। गुरुवार को ही पुलिस ने हारून के नंबर की सीडीआर निकलवाई। वारदात से पहले जिन नंबरों पर हारून की बात हुई, उनमें कुछ तो बंद आ रहे हैं, जो चालू हैं उनकी लोकेशन ट्रेस कर पुलिस खोजबीन कर रही है। इन्हीं नंबरों में हत्यारोपितों का भी नंबर है। उधर, आरोपित वारदात के बाद हारून का मोबाइल अपने साथ ले गए थे, जो अभी तक बरामद नहीं हुआ है। ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि फोन आरोपितों के पास ही है। पुलिस ने मामले में शुक्रवार को कई जगहों पर दबिश दी। कई लोगों से पूछताछ भी की। लेकिन, कोई सुराग उनके हाथ नहीं लगा। हालांकि, पुलिस खुद को आरोपितों के नजदीक बताते हुए जल्दी ही घटना का पर्दाफाश करने का दावा कर रही है। स्थानीय पुलिस व एसओजी आरोपितों की धरपकड़ में लगी है। गौर हो कि गुरुवार सुबह गांव आबिदपुर मानकी में आरोपितों ने गला रेतकर ट्रैक्टर चालक हारून की हत्या कर दी थी। शव गांव में ही खेतों में पड़ा मिला था। मामले में हारून के ममेरे भाई शाहरूख की तहरीर पर मुकदमा दर्ज हुआ। घटना का पर्दाफाश करने के लिए तीन टीम काम कर रही हैं। टीमें लगातार आरोपितों की तलाश में लगी हैं। सीसीटीवी फुटेज, सीडीआर आदि जांची गई हैं। कुछ सुराग हाथ लगे हैं, अभी इन्हें सार्वजनिक करना सही नहीं होगा। हालांकि, पुलिस आरोपितों के नजदीक हैं। जल्द ही उनकी गिरफ्तारी सुनिश्चित होगी।

सुनील कुमार, सीओ मोदीनगर

Edited By: Jagran