जासं, गाजियाबाद : मधुबन-बापूधाम में जीडीए सड़क बनाने के लिए मिट्टी भरने का काम करा रहा है। बृहस्पतिवार को सदरपुर के किसानों ने इसका विरोध किया। उनका आरोप था कि खेतों में खड़ी फसल को उजाड़ दिया गया। किसान बढ़े हुए मुआवजे की मांग भी कर रहे थे। इसके चलते सड़क का काम दो दिन के लिए रोक दिया है। मौके पर पहुंचे जीडीए अधिकारियों ने आश्वासन दिया है कि शनिवार को उनसे बात की जाएगी। इस पर किसान हट गए।

मधुबन-बापूधाम आवासीय योजना को बसाने के लिए वर्ष 2004 में कई गांवों की भूमि का अधिग्रहण करने की प्रक्रिया शुरू हुई थी। इसमें सदरपुर गांव की जमीन भी अधिगृहीत की गई थी। वर्ष 2007 में प्राधिकरण, प्रशासन और किसानों के मध्य समझौता हुआ। तब किसानों को 1100 रुपये वर्ग मीटर की दर से मुआवजा दिया गया। किसानों का कहना है कि तब यह भी तय हुआ था कि भविष्य में इस योजना में मुआवजा बढ़ता है तो बढ़ा हुआ मुआवजा ही दिया जाएगा। बाद में 6000, 6900 और 14000 रुपये वर्ग मीटर की दर से कई किसानों को भुगतान किया गया। भारतीय किसान यूनियन के नेता राजबीर सिंह ने कहा है कि बढ़ा हुआ मुआवजा दिया जाए। जीडीए की तरफ से ओएसडी संजय कुमार, जोन तीन के अभियंत्रण प्रभारी केशवराम मौके पर पहुंचे। अभियंत्रण प्रभारी केशवराम ने बताया कि किसान गलत मांग कर रहे हैं। लेकिन इनको वार्ता के लिए शनिवार को बुलाया है। इसलिए दो दिन सड़क का काम रोका गया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस