जागरण संवाददाता, गाजियाबाद/साहिबाबाद : साल-2021 को अलविदा कहते हुए ट्रांस हिडन समेत सभी शहरवासियों ने कोरोना से बचाव के साथ नए साल का जश्न मनाया। हर साल ज्यादातर लोग खासकर युवा 31 दिसंबर की रात को रेस्टोरेंट, माल-मल्टीप्लेक्स में पार्टी करते थे, लेकिन इस साल कोरोना महामारी के चलते एहतियात बरतते हुए ज्यादातर ने घर पर ही केक काटकर और पकवान बनाकर नए साल की खुशियां मनाईं। हालांकि कुछ लोग नए साल का जश्न मनाने माल मल्टीप्लेक्स भी पहुंचे। रात 12 बजे कई जगह आतिशबाजी भी हुई। नए साल पर शहरभर में कोई खास सामूहिक कार्यक्रम नहीं हुआ। कहीं किसी ने कोई आयोजन किया तो भी सीमित संख्या में ही लोग शामिल हुए। यहां कोरोना से बचाव का खास ध्यान रखा गया। साल के पहले दिन एक जनवरी को लोग मंदिरों में दर्शन कर भगवान से कोरोना संकट को खत्म करने की प्रार्थना करेंगे। सजे माल मल्टीप्लेक्स : शहरभर के माल मल्टीप्लेक्स नए साल के लिए खासतौर पर सजाए गए थे। वैशाली सेक्टर-3 के महागुन माल के महाप्रबंधक फैसल खान ने शुक्रवार को लोग खरीदारी करने, फिल्म देखने, रेस्टोरेंट में खाना खाने के लिए पहुंचे। शारीरिक दूरी का पालन कराने के लिए अनाउंसमेंट किया जाता रहा। रात 10 बजे माल बंद कर दिया गया, ताकि रात्रिकालीन क‌र्फ्यू लगने से पहले लोग अपने घर पहुंच सकें।

सोसायटियों में कोरोना से बचाव रखा ध्यान : हर साल सोसायटियों में नए साल के जश्न में सामूहिक कार्यक्रम होते रहे हैं, लेकिन इस साल कोरोना के मद्देनजर ज्यादातर सोसायटियों में सामूहिक कार्यक्रमों का आयोजन नहीं हुआ। कुछ सोसायटियों में कार्यक्रम हुए भी तो सीमित संख्या में ही लोग शामिल हुए। इसमें शासन द्वारा कोरोना से बचाव के लिए जारी गाइडलाइन का पालन किया गया। राजनगर एक्सटेंशन, विजयनगर, गोविदपुरम, कविनगर और लालकुआं सहित अन्य क्षेत्र की ज्यादातर सोसायटियों में सामूहिक कार्यक्रमों का आयोजन नहीं हुआ। वसुंधरा सेक्टर दो स्थित कल्पतरू सोसायटी में निवासियों ने एकत्र होकर केक काटा। महिलाओं ने अपने-अपने गृह जनपद के लजीज व्यंजन बनाए और एक-दूजे के साथ साझा किया। मौके पर राजेंद्र वर्मा, निशा वर्मा, चंद्र भान रावत, चंचल, पंकज शर्मा, शिवानी, संदीप आदि मौजूद रहे। वहीं, ट्रांस हिडन की ज्यादातर सोसायटियों में लोगों ने घर पर ही नववर्ष मनाया। --------- नव वर्ष पर मंदिर में जाकर पूजा करेंगे। ईश्वर से प्रार्थना करेंगे कि संसार को कोरोना संकट से बचाएं, ताकि नए साल में 2021 जैसी स्थिति न हो।

- प्रह्लाद त्यागी, निवासी इंदिरापुरम

---------- पूजा करने से सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है। नववर्ष का पहला दिन शनिवार है। भगवान शनि के साथ अन्य देवी-देवताओं की पूजा करना शुभ होगा।

-पंडित डा.गिरीश मिश्र, प्रधान पुजारी, श्री शिव शक्ति मंदिर, मोहन नगर।

Edited By: Jagran