जासं, गाजियाबाद: राजनगर एक्सटेंशन में कूड़ा डालने का विरोध होने के बाद शहर में कूड़ा डंप करने के लिए नगर निगम को जगह नहीं मिल रही है। इससे शहर में जगह-जगह कचरे का ढेर लग रहा है। बुधवार रात को नगर निगम की टीम मेरठ रोड के पास तलाशी गई नई जमीन पर कूड़ा डंप करने के लिए पहुंची तो वहां भी विरोध हुआ। इससे टीम को वापस लौटना पड़ा। बृहस्पतिवार सुबह नगर निगम की टीम लोहिया नगर स्थित हमदर्द चौराहे पर कूड़ा फेंकने के लिए पहुंची, तो वहां पर महिलाओं ने विरोध जताया। इस कारण कूड़े को लेकर समस्या बरकरार है।

दरअसल, नगर निगम के पास कूड़ा डंप करने के लिए जगह नहीं है। राजनगर एक्सटेंशन स्थित मिग्सन सोसायटी के पास कूड़ा डालने पर रोक लगने के बाद नगर निगम ने गालंद में कूड़ा निस्तारण के लिए योजना बनाई। वहां पर विधायक असलम चौधरी सहित कई लोगों विरोध प्रदर्शन किया। इससे पिछले 12 दिन से नगर निगम को कूड़ा डालने के लिए स्थान नहीं मिल रहा है। समस्या का समाधान करने के लिए नगर निगम ने मेरठ रोड के पास मोरटा में कूड़ा डालने के लिए जमीन तलाशी थी। यहां पर किसान से अनुबंध कर कूड़ा डालने और उसका निस्तारण की योजना बनाई थी। सहमति बनने पर बुधवार रात को नगर निगम ने मोरटा में कूड़ा डालने के लिए गाड़ियां और उसको दबाने के लिए मशीन भेजी, लेकिन रात को ही किसान पहुंच गए। उन्होंने कूड़ा डंप करने का विरोध किया तो नगर निगम की टीम वापस लौटी। गालंद में ही डाला जाएगा कूड़ा: नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा.मिथिलेश कुमार ने बताया कि नगर निगम ने गालंद में कूड़ा निस्तारण के लिए जमीन अधिग्रहीत की है। इस पर जल्द ही कार्य शुरू कराया जाएगा। इस संबंध में हापुड़ में जिला प्रशासन और पुलिस के अधिकारियों के साथ वार्ता की जा रही है। बृहस्पतिवार को भी पिलखुआ में गाजियाबाद नगर निगम और हापुड़ के पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों और किसानों के साथ एक बैठक की गई है। उम्मीद है कि जल्द ही समस्या का समाधान हो जाएगा।

Edited By: Jagran