संवाद सहयोगी, मुरादनगर:

कृषि सुधार कानूनों के विरोध में विपक्ष व भाकियू द्वारा आयोजित भारत बंद का प्रभाव मुरादनगर क्षेत्र में सीमित तौर पर दिखाई दिया। इक्का- दुक्का स्थानों को छोड़कर क्षेत्र में कोई विशेष प्रदर्शन नहीं हुआ। हाईवे पर भी यातायात सामान्य रूप से सुचारू रहा। भारत बंद के नाम पर शुक्रवार को सुबह से ही मोदीनगर व गाजियाबाद में किसानों द्वारा धरना प्रदर्शन की खबरें आने लगी थीं। मोदीनगर में तो गुस्साए किसानों ने तहसील के सामने हुक्का गुड़गुड़ाकर सरकार के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद की। आसपास के क्षेत्र की तुलना में मुरादनगर क्षेत्र शांत बना रहा। क्षेत्र में कहीं से भी किसी बड़े विरोध प्रदर्शन की खबर सामने नहीं आई। हालांकि, कुछ लोगों ने दुहाई के निकट हाईवे पर जाम लगाने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए वहां जाम लगने से पहले की लोगों को हटवा दिया गया। इसके अलावा मोदीनगर में लगे जाम को देखते हुए पुलिस ने यातायात को गंगनहर पटरी मार्ग के लिए डायवर्ट करा दिया, जिसके चलते कुछ देर के लिए गंगनहर के निकट वाहनों की कतारें लग गईं, वहां पर भी पुलिस ने कुछ देर में हालात को सामान्य करा दिया। भाकियू नेताओं ने बताया कि अलसुबह ही क्षेत्र के बहुत से किसान प्रदर्शन के लिए गाजियाबाद और मेरठ की और रवाना हो गए थे। मुरादनगर में कोई अहम प्रदर्शन स्थल तय नहीं किया गया था।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस