गाजियाबाद [मदन पांचाल]। ब्राजील और ब्रिटेन समेत दुनिया कई देशों में कोरोना वायरस संक्रमण के नए स्ट्रेन ओमिक्रोन के मामले मिलने के बाद दिल्ली से सटे गाजियाबाद जिले में भी सतर्कता बरती जा रही है। गाजियाबाद स्वास्थ्य विभाग ने सभी पैथालाजी लैब के संचालकों को नोटिस जारी करते हुए चेतावनी दी है कि प्रतिदिन होने वाली जांचों का पूरा विवरण विभाग को अनिवार्य रूप से देना होगा।

जिला सर्विलांस अधिकारी डा. आरके गुप्ता ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया है कि कोरोना समेत मलेरिया, टाइफाइड,सीटी स्केन (चेस्ट) डेंगू और टीबी की जांच कराने वाले लोगों की निगरानी तेज कर दी गई है। लैब पर होने वाली जांच रिपोर्ट के आधार पर ऐसे प्रत्येक मरीज के घर रैपिड रेस्पांस टीम जाएगी और उसका पर्याप्त इलाज कराएंगी। पैथालाजी लैब द्वारा यदि किसी भी प्रकार की जांच को छिपाने का प्रयास किया जाता है तो संबंधित लैब का पंजीकरण निरस्त करने की कार्रवाई की जाएगी। आइएमए के अध्यक्ष को भी इस संबंध में अवगत कराया है। निजी अस्पतालों में होने वाली जांच और भर्ती होने वाले मरीजों का रोज विवरण देना होगा।

संभावित तीसरी लहर के इंतजामों की रिपोर्ट लंबित

सरकारी ही नहीं निजी अस्पतालों में भी संभावित तीसरी लहर से बवाच एवं रोकथाम के इंतजाम ठीक नहीं है। सीएमओ डा. भवतोष शंखधर ने इस संबंध में पत्र भेजकर सभी अस्पतालों से इंतजामों का विवरण मांगा था, लेकिन 20 दिन बाद भी 10 फीसद निजी अस्पतालों ने विवरण देिया है।

Edited By: Jp Yadav