गाजियाबाद, जागरण संवाददाता। दिल्ली से सटे गाजियाबाद के नंदग्राम में पॉलीटेक्निक द्वितीय वर्ष के छात्र ने फांसी लगाकर जान दे दी। शुरुआती जानकारी के मुताबिक, यह छात्र लॉकडाउन के दौरान देर रात तक भी पबजी खेलता था। बुधवार सुबह स्वजनों ने उसका शव फंदे पर लटका देखा। स्वजनों ने पुलिस को बताया है कि छात्र ने कोई सुसाइड नोट नहीं छोड़ा है।

लगातार घर में रहकर लग गई थी लत

वहीं, सिहानी गेट एसएचओ गजेंद्र पाल सिंह ने बताया कि अभिषेक सिंह दिल्ली-मेरठ रोड स्थित कॉलेज में पॉलीटेक्निक कर रहा था। वह परिवार के साथ नंदग्राम स्थित अपने मकान में रहता था। उसे पबजी खेलने की लत लगी हुई थी। लॉकडाउन के कारण उनका परिवार घर से बाहर नहीं निकलता है।

लॉकडाउन में छात्र देर रात तक खेलता था पबजी

लॉकडाउन में वह पहले से ज्यादा गेम खेलता था। मंगलवार रात को वह अपने कमरे में पबजी खेल रहा था। सुबह जब वह नीचे नहीं आया तो स्वजन उसके कमरे में पहुंचे। छात्र का शव फंदे से लटका हुआ था।

स्वजनों ने नहीं की शिकायत

जांच में जुटी पुलिस ने शव को स्वजनों को सौंप दिया है। स्वजनों ने कोई लिखित में शिकायत नहीं की है। वहीं, पुलिस ने अब कोई मामला दर्ज नहीं किया गया है।

लव अफेयर को लेकर भी जांच

पुलिस प्रेम- प्रसंग के एंगल से भी जांच कर रही है। अभी तक आत्महत्या की वजह साफ नहीं हो सकी है। पुलिस को उसके मोबाइल में पबजी गेम मिला है। सीडीआर मिलने के बाद मौत के कारणों का पता चल सकता है।

वहीं, मनोचिकित्सकों की मानें तो किसी भी चीज के लत खतरनाक होती है। खासकर ऑनलाइन गेम का नशा कभी कभार जिंदगी पर भी बन आता है। इसके सबसे ज्यादा शिकार स्कूली छात्र-छात्राएं और युवा हो रहे हैैं। यह भी गौर करने वाली बात है कि कुछ देशों ने तो चुनिंदा ऑनलाइन गेम्स को बैन कर दिया गया है। 

 

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस