गाजियाबाद [दीपा शर्मा]। अभी तक डॉक्टर, पुलिस, प्रशानिक कर्मचारी, अधिकारी, सफाई कर्मचारी और अन्य कोरोना योद्धा के रूप में कोरोना महामारी में सेवा दे रहे थे, लेकिन अब बेसिक शिक्षा विभाग भी कोरोना योद्धाओं की भूमिका निभा रहा है। बेसिक शिक्षा अधिकारी से लेकर शिक्षक और कर्मचारी कामगारों की सूची के आधार पर पहचान कर ट्रेन तक पहुंचाने में लगे हैं। इसके अलावा जरूरतमंदों में खाना, मास्क और सैनिटाइजर वितरित करने के साथ उन्हें कोरोना से सावधानी के प्रति जागरूक भी कर रहे हैं।

बेसिक शिक्षा अधिकारी बृज भूषण चौधरी ने बताया कि जब से कामगारों को घर भेजने का काम शुरू हुआ है तभी से उनकी ड्यूटी कामगारों को सुरक्षित तरीके से ट्रेन तक ले जाने की लगाई गई है। उन्हें प्रशासन की ओर से मजदूरों की सूची दी जाती है। इन कामगारों को कॉल करके पहचान करते हैं। इसके बाद उन्हें एक कोड देकर घंटाघर स्थित रामलीला मैदान बुलाया जाता है। वहां इनसे कोड मालूम करते हैं इसके बाद सभी की थर्मल स्कैनिंग के बाद शारीरिक दूरी का पालन कराते हुए बस तक पहुंचाना होता है। इसके लिए 50 शिक्षकों और अन्य कर्मचारियों की भी ड्यूटी लगी है। उन्होंने बताया कि जितने बजे भी ट्रेन जाती है दिन हो या रात उसी हिसाब से ड्यूटी देनी होती है।

आश्रय स्थलों में पहुंचाते हैं खाना

बेसिक शिक्षा अधिकारी बृज भूषण चौधरी ने बताया बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से जरूरतमंदों को खाना भी पहुंचाया जाता है। अभी आश्रय स्थलों में खाना पहुंचाया जा रहा है। इसके अलावा अन्य कहीं भी जहां जरूरतमंद होते हैं उन्हें खाना दिया जाता है। इसके अलावा मास्क सैनिटाइजर और राशन देकर भी मदद की जा रही है।

Posted By: Neel Rajput

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस