गाजियाबाद [अभिषेक सिंह]। UP Assembly Election 2022: गाजियाबाद में रालोद मुखिया के साथ संयुक्त पत्रकार वार्ता के दौरान पूर्व सीएम और सपा मुखिया अखिलेश यादव ने कहा कि जहां जोड़े बनते हैं वहां गठबंधन का कार्यक्रम हो रहा है।  किसान अपमानित हुए थे और उनकी बहादुरी और साहस से कानून वापस हुए हैं। इस मौके पर अखिलेश यादव ने कहा की यूपी चुनाव में इस गाज़ीपुर से उस गाज़ीपुर तक भाजपा का सफाया होगा.

केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि सरकार की नाकामी के कारण देश गरीब हो रहा है और गरीबों की संख्या बढ़ रही है।

उन्होंने कहा कि वर्ष 2020 में कोरोना संक्रमण के दौर में मजदूर अपने घर पैदल ही जाने के लिए मजबूर हुए। बहुत से मजदूर तो घर तक नहीं पहुंच पाए। रास्ते में ही 90 से ज्यादा मजदूरों की जान चली गई। सपा और रालोद ने लोगों की मदद की। सपा ने 1-1 लाख रुपये लोगों को मदद के तौर पर दिए।

किसान आंदोलन का जिक्र कर अखिलेश यादव ने कहा कि किसान बार्डर पर पहुंचे तो कील लगा दी गई। बावजूद इसके किसानों ने सर्दी, गर्मी, बरसात की परवाह नहीं की और बार्डर पर किसान डटे रहे। आखिरकार तीनों केंद्रीय कृषि कानून वापस हुए, इसके लिए किसानों को बधाई देता हूं।

ये चुनाव विरासत बचाने का है

किसानों के हित के लिए और खुशहाली के लिए कोई आगे आया तो वह चौधरी चरण सिंह थे। उनके बाद अजीत सिंह थे। ये चुनाव चौधरी चरण सिंह की विरासत को बचाने का है।

ग़ाज़ियाबाद को लेकर उन्होंने कहा कि यूपी का बड़ा शहर है। यहां के लोगों का पेट अन्नदाता भर रहा है। लोग अन्नदाता के पक्ष में मतदान कर रहे हैं। नकारात्मक पालिटिक्स को हम खत्म करना चाहते हैं। हम सब एक हैं, गंगा, जमुनी तहजीब को आगे बढ़ाएंगे। उद्योगों को मदद की जाएगी, एमएसएमई सेक्टर के लिए अलग से पैकेज लाएंगे।

 अखिलेश यादव ने कहा कि यहां साइकिल का पुराना कारखाना था, जब यह बन्द होने को था तो सपा ने विरोध किया। सरकार बनने पर साइकिल के कारखाने को जिंदा करेंगे, जरूरत पड़ी तो अलग से पैकेज देंगे। इससे लोगों को रोजगार मिलेगा।

उन्होंने कहा कि मैं लाल पोटली लेकर चलता हूं, ये अन्न संकल्प के लिए लेकर चलते हैं किसान के हक में लगातार लड़ाई लड़ते रहेंगे। जब तक भाजपा का यूपी से सफाया हो जाए  इस गाजीपुर बार्डर से उस गाजीपुर बार्डर तक भाजपा का सफाया होगा।

Edited By: Jp Yadav