जागरण संवाददाता, गाजियाबाद। पंचायत चुनावों में वोटरों को रिझाने के लिए इस बार भी शराब बांटने की तैयारी चल रही है। गांव की चौपालों पर देशी एवं विदेशी शराब का भंडारण तेज हो गया है। आबकारी विभाग ने 99 आन रिकार्ड एवं 422 संदिग्ध शराब तस्करों की निगरानी बढ़ा दी है।

इनमें कई तस्कर खुद भी पंचायत चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं। आबकारी विभाग की रिपोर्ट के अनुसार जनवरी 2021 से लेकर 31 मार्च तक बीस से अधिक शराब तस्करों को गिरफ्तार करते हुए चार हजार लीटर से अधिक तस्करी की शराब बरामद की गई है। इसमें हरियाणा की शराब अधिक बरामद की गई है।

161 ग्राम प्रधानों के भावी उम्मीदवारों पर होगी नजर

ग्राम प्रधान के भावी उम्मीदवारों एवं उनके खास लोगों की सूची तैयार की जा रही है। इनके घर एवं गोपनीय ठिकानों पर आबकारी,पुलिस एवं प्रशासन की संयुक्त टीम हर पल निगरानी रखेगी।

बताया गया है कि हरियाणा एवं दिल्ली की शराब लाकर भावी उम्मीदवारों ने सुरक्षित तरीके से स्टोर कर ली है। नामांकन होने के बाद शराब का वितरण होगा। लोनी एवं मुरादनगर क्षेत्र में देशी शराब भी बनाई जा रही है।

राकेश कुमार सिंह (जिला आबकारी अधिकारी) का कहना है कि बीस दिन तक दिन-रात तस्करी की शराब पकड़ने एवं रोक लगाने के लिए छापामार कार्रवाई की जाएगी। अतिरिक्त टीमों का गठन कर दिया है। लोनी, यूपी बार्डर, ईस्टर्न-पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे पर डासना एवं दुहाई में खास चेकिंग की जा रही है। शराब तस्करों के खिलाफ आबकारी अधिनियम के साथ ही गैंगस्टर के तहत कार्रवाई की तैयारी की जा रही है।

Edited By: Vinay Kumar Tiwari