गाजियाबाद, जागरण संवाददाता। अगले एक-दो दिन में दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे का निरीक्षण करने केंद्र सरकार के उच्च अधिकारियों की टीम आने वाली है। अधिकारियों के साथ ही तकनीकी टीम भी दिल्ली से लेकर मेरठ तक एक्सप्रेस-वे का निरीक्षण करने के बाद पूरी रिपोर्ट केंद्र सरकार को देगी। प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट के निरीक्षण की संभावित तिथि 12 जुलाई को ध्यान में रखकर एनएचएआइ के अधिकारी एवं निर्माण कंपनी पूरी तैयारियों में जुट गए हैं।

एनएचएआइ के परियोजना निदेशक मुदित गर्ग ने उच्च स्तरीय अधिकारियों के निरीक्षण की पुष्टि की है लेकिन तिथि को लेकर उन्होंने अनभिज्ञता जाहिर की है। उधर डीएम राकेश कुमार ¨सह ने बताया कि निरीक्षण को आने वाली टीम को प्रशासन स्तर से पूरा सहयोग किया जाएगा। प्रोटोकाल के तहत पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारियों की टीम साइट पर तैनात की जाएगी।

उदघाटन की तैयारी का संकेत

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे को चालू हुए तीन महीने से अधिक हो गया है। एनएचएआइ द्वारा टोल दरों के निर्धारण की तैयारी की जा रही है। चिपियाना आरओबी का निर्माण कार्य तेज कर दिया है। एएनपीआर टोल प्लाजा शुरू कर दिया गया है। अब उच्च स्तरीय निरीक्षण होने जा रहा है। स्थानीय प्रशासन का मानना है कि जल्द ही इस एक्सप्रेस-वे का विधिवत उदघाटन हो सकता है। यह उसी का रिहर्सल है।

120 से 125 रुपये के बीच दरों पर विचार

एक्सप्रेस-वे पर दिल्ली से मेरठ तक वाहन दौड़ाने पर 120 से 125 रुपये तक का टोल टैक्स तय हो सकता है। पता चला है कि एनएचएआइ ने प्रस्तावित दरों की सूची अंतिम रूप से मंजूरी के लिए केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय को भेज दी है। एक्सप्रेस-वे पर जितनी दूर वाहन चलेगा उतना ही टोल देय होगा

Edited By: Vinay Kumar Tiwari