गाजियाबाद, जागरण संवाददाता। नंदग्राम थाना क्षेत्र के आदर्शनगर में होम लोन नहीं चुका पाने पर मकान पर कब्जा लेने पहुंची पुलिस-प्रशासन व बैंक की टीम के सामने डेरी संचालक ने क्षुब्ध होकर अपने ऊपर मिट्टी का तेल छिड़क लिया और आग लगा ली। मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने आनन-फानन में डेरी संचालक पर कपड़ा डालकर उन्हें बचाया।

घटना में डेरी संचालक झुलस गए जबकि उन्हें बचाने के चक्कर में एक पुलिसकर्मी का हाथ भी जल गया। डेरी संचालक को जिला एमएमजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। किसी तरफ से भी पुलिस को तहरीर नहीं मिली है।

जानें पूरा मामला

आदर्शनगर के शौवीर राणा डेरी संचालक हैं। उन्होंने वर्ष 2016 में नई दिल्ली पूसा रोड स्थित कापरी ग्लोबल कैपिटल लिमिटेड से मकान पर 15.45 लाख रुपये का लोन दिया था। वर्ष 2020 तक उन्होंने किस्तों के माध्यम से 11.80 लाख रुपये का भुगतान कर दिया। कोरोना काल के कारण 2020 के बाद से उनकी किस्त रुक गईं। इसके बाद बैंक का उनपर 24 लाख रुपये बकाया था।

मंगलवार दोपहर एडीएम वित्त एवं राजस्व विवेक श्रीवास्तव के आदेश पर सरफेसी एक्ट के तहत नायब तहसीलदार ओमप्रकाश पासवान के नेतृत्व में प्रशासन, पुलिस व बैंक की टीम मकान पर कब्जा लेने के लिए पहुंची। इस पर मौके पर अफरा-तफरी मच गई।

मकान कब्जाने से क्षुब्ध शौवीर ने अपने ऊपर मिट्टी का तेल छिड़क लिया और आग लगा ली। घटना से मौके पर मौजूद अधिकारियों में हड़कंप मच गया। मौके पर तैनात पुलिसकर्मियों ने आनन-फानन में शौवीर पर चादर डालकर बचाया और आग बुझाई। इस घटना में शौवीर का चेहरा, हाथ व सीने का कुछ हिस्सा जल गया जबकि पुलिसकर्मी का हाथ मामूली रूप से झुलस गया। पुलिस ने शौवीर को तत्काल जिला एमएमजी अस्पताल में भर्ती कराया।

भैंस चोरी होने की पुलिस ने दर्ज नहीं की रिपोर्ट

शौवीर के स्वजन का कहना है कि नवंबर माह में शौवीर की भैंस चोरी हो गई थीं। तब से उनकी आर्थिक स्थिति और ज्यादा बिगड़ गई थी। उन्होंने पुलिस से कई बार भैंस चोरी की शिकायत की लेकिन पुलिस ने उनकी तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज नहीं की।

यह भी पढ़ें- MP: आग में झुलसकर महिला और नाबालिग बेटी की मौत, पुलिस कर रही मामले की जांच

यह भी पढ़ें- शराब के नशे में शराबी था इतना धुत कि शरीर जलकर हुआ राख, फिर भी नहीं खुली नींद, बिस्‍तर पर लेटे-लेटे दे दी जान

Edited By: Abhi Malviya

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट