गाजियाबाद, जागरण संवाददाता दक्षिण दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन मरकज में हुई तब्लीगी जमात में शामिल गाजियाबाद के लोगों को जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड व क्वारंटाइन में रखा गया है, जहां इन पर मेडिकल स्टाफ के साथ अश्लीलता करने के आरोप लगे हैं। जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ. रविंद्र सिंह राणा ने नगर कोतवाल विष्णु कौशिक को पत्र लिखा कि जमाती बिना पैंट के वार्ड में घूमते हैं। ऐसी स्थिति में उनका इलाज संभव नहीं हो पा रहा है।

जिला अस्पताल में तैनात नर्सों की मानें तो यहां पर भर्ती जमाती उनसे बीड़ी और सिगरेट की मांग कर रहे हैं। साथ ही अश्लील इशारे कर आपत्तिजनक गाने तेज आवाज में बजाते हैं। इससे परेशानी हो रही है। सीएमओ डॉ. एनके गुप्ता ने बताया कि गुरुवार शाम सात बजे तक तब्लीगी जमात में शामिल हुए गाजियाबाद के 177 लोगों का पता लगाया जा चुका है। इनमें से पांच दिल्ली में और एक बरेली में भर्ती हैं। 

सीएमएस ने बताया कि महिला नर्स जैसे ही वार्ड में जाती हैं तो जमाती कपड़े बदलना शुरू कर देते हैं। बिना पैंट के वार्ड में घूमते रहते हैं। गंदे गाने सुन रहे हैं और स्टाफ नर्स व कर्मचारियों से बीड़ी-सिगरेट मांग रहे हैं। महिला कर्मचारियों को अश्लील इशारे कर रहे हैं। आइसोलेशन वार्ड में रहने के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में बताए जाने का भी जमाती मजाक उड़ा रहे हैं। इसके अलावा सैंपल लेने का भी विरोध कर रहे हैं। इसी तरह अन्य स्थानों से भी जमातियों के व्यवहार को लेकर शिकायत मिलीं।

नंबर लिखाकर नदारद हो गए सिपाही

सीएमएस ने बताया कि उन्होंने एसपी क्राइम प्रकाश कुमार को सूचना दी थी। चौकी प्रभारी पहुंचे और आइसोलेशन वार्ड के स्टाफ को बताया कि दो सिपाही इमरजेंसी में हैं। यदि दोबारा अभद्रता की जाती है तो तुरंत सूचना दें। मगर दोनों सिपाही इमरजेंसी में अपना मोबाइल नंबर लिखवाकर चले गए।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021