गाजियाबाद [जेएनएन]। स्वच्छ भारत मिशन का असर गाजियाबाद में भी देखने को मिल रहा है। प्रशासन ने जनपद को खुले में शौच मुक्त बनाने के लिए प्रयास तेज कर दिए हैं। स्वच्छ भारत मिशन के तहत शुरू हुई यह कवायद गाजियाबाद समेत प्रदेश के सात जिलों में चल रही है। इसके तहत जिले में 18 हजार शौचालय बनाए जाने हैं। मार्च तक इस काम को पूरा किया जाना है। प्रशासनिक टीम लोगों को जागरूक करने के लिए गांव-गांव जा रही है।

स्वच्छ भारत मिशन के तहत जिले को खुले में शौच से मुक्त बनाना है। प्रथम चरण में प्रदेश के सात जिलों को लिया गया है। इसमें गाजियाबाद, बिजनौर, शामली, फिरोजाबाद, कन्नौज, कौशांबी व वाराणसी शामिल हैं। गाजियाबाद को खुले में शौच मुक्त बनाने के लिए प्रशासन ने तैयारी तेज कर दी है। जिले में 18 हजार परिवार ऐसे हैं, जो खुले में शौच कर रहे हैं। अब इनके यहां शौचालय बनवाए जाने हैं। 3500 शौचलाय बनाए जा चुके हैं। इन शौचालयों को अगले साल मार्च तक पूरा किया जाना है।

नोटबंदी की रामलीला, 60 लाख लेकर चंपत हुए 'सीता-राम'

लोगों को किया जा रहा जागरूक

डीपीआरओ वीरेंद्र सिंह ने बताया कि खुले में शौच से होने वाली दिक्कतों के बारे में लोगों को जागरूक किया जा रहा है। उन्हें यह बताया जा रहा है कि खुले में शौच करने से कौन-कौन सी बीमारी हो रही हैं। इसका आसपास के इलाके में क्या असर पड़ेगा। लोगों को जागरूक करने के लिए टीम बनाई गई है। इस टीम को प्रशासन इस समय प्रशिक्षण दे रहा है। हर गांव में 5 सदस्यीय टीम बनाई गई है। टीम में ग्राम प्रधान, शिक्षक, आंगनबाड़ी कर्मचारी, स्वच्छता कार्मिक, राशन वितरक शामिल हैं।

नोटबंदी: शादी और सगाई छोड़ काम पर लौटीं महिला बैंक कर्मी, पेश की मिसाल

Posted By: Amit Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस