गाजियाबाद [राज कौशिक]। बिहार के चुनाव प्रचार में वहां के नेताओं को तवज्जो न दिए जाने से मिले निराशाजनक चुनाव परिणामों से लगता है भारतीय जनता पार्टी हाईकमान ने सबक सीखा है। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की तैयारियों में गरमाहट लाने के लिए भाजपा ने जो परिवर्तन संदेश रथ सड़कों पर उतारे हैं, उन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के साथ ही यूपी के चार प्रमुख चेहरे राजनाथ सिंह, कलराज मिश्र, उमा भारती और केशव प्रसाद मौर्य के भी बड़े-बड़े चित्र छापे गए हैं।

सोमवार को 200 परिवर्तन संदेश रथों को भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह ने पार्टी का झंडा दिखाकर रवाना किया। पूरी तरह से भगवा रंग में रंगे ये रथ प्रदेश के विभिन्न जनपदों में पहुंच कर केंद्र सरकार की उपलब्धियों को बताएंगे। रथ सपा सरकार और पिछली बसपा सरकार की खामियों को भी प्रदेश की जनता के सामने रखेंगे।

बाबा साहेब को PM मोदी-राष्ट्रपति ने दी श्रद्धांजलि, केजरीवाल बोले-जय भीम

एलईडी स्क्रीन और वीडियो कॉलिंग जैसी आधुनिक तकनीक से लैस इन परिवर्तन संदेश रथों को लेकर भाजपाइयों को सबसे सुखद यह लग रहा है कि इन पर पीएम मोदी और अध्यक्ष अमित शाह के साथ ही केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय लघु व मध्यम उद्योग मंत्री कलराज मिश्र, केंद्रीय जल संस्धान मंत्री उमा भारती और पार्टी के यूपी के अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य के भी बड़े-बड़े चित्र उन्हें नजर आ रहे हैं।

दिल्ली में दलितों को रिझाने में जुटे मनोज तिवारी, संग किया भोजन

परिवतर्न संदेश रथों को रवाना किए जाने के समारोह में यूपी के चार बड़े नेताओं की तस्वीरों को लगाया जाना चर्चा का विषय रहा। कार्यकर्ताओं का कहना है कि इससे चुनाव में लाभ होगा। राजनीति के जानकारों का मानना है कि स्वर्ण जातियों के 2 बड़े नेता राजनाथ सिंह व कलराज मिश्र और पिछड़े वर्ग से उमा भारती व केशव प्रसाद मौर्य की तस्वीरों को प्रचार-प्रसार में आगे कर भाजपा यूपी के 2 बड़े वर्गों को रिझाने की कोशिश कर रही है।

Edited By: Amit Mishra