गाजियाबाद, जागरण संवाददाता। रोडरेज की घटनाओं पर पुलिस अंकुश नहीं लगा पा रही है। ऑडी सवार उद्यमी को ऑल्टो सवार चार लड़कों ने टक्कर मारी और उन्हें अगवा करने का प्रयास किया। आरोप है कि चारों युवक कार में शराब पी रहे थे। कार पर एक किसान संगठन के जिला महामंत्री का स्टीकर भी लगा था। पीड़ित ने खुद को बचाकर भागने की कोशिश की तो आरोपितों ने उन्हें चार किमी तक दौड़ाया। बता दें कि लालकुआं के पास 29 जनवरी को हुई इस घटना में डीसीपी ग्रामीण से शिकायत के बाद गुरुवार को नगर कोतवाली पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज की है।

जानें पूरा मामला 

ट्रोनिका सिटी की सिग्नेचर रेजिडेंसी में रहने वाले विकास चतुर्वेदी की ट्रोनिका सिटी में ही इंजीनियरिंग फर्म है। 29 जनवरी को वह चालक के सात अपनी ऑडी कार से बुलंदशहर से गाजियाबाद लौट रहे थे। लालकुआं पर पीछे से ऑल्टो कार ने उन्हें टक्कर मारी। इसके बाद विकास और चालक ने उतरकर देखा और ऑल्टो चालक को टक्कर मारने पर टोका। आरोप है कि कार में बैठे चार युवक शराब पी रहे थे और एक ने सर्दी से बचने के लिए लगाई जाने वाली खाकी रंग की कैप भी पहन रखी थी। चारों आरोपितों ने बाहर आकर उद्यमी से गाली-गलौज भी की। 

इसके बाद आरोपित युवकों ने उद्यमी की कार का शीशा पीटते हुए तोड़ने और उनको अगवा करने की कोशिश की। चालक ने कार आगे बढ़ाई तो युवकों ने भी अपनी कार से उन्हें ओवरटेक किया। इसके बाद आरोपित युवकों ने चार किमी तक उद्यमी का पीछा किया। 

पुलिस पर लगे लापरवाही के आरोप

विकास का आरोप है कि उन्होंने पुलिस को सूचना दी थी, लेकिन दो दिन तक उन्हें कोई रिस्पॉन्स नहीं मिला।इसके बाद उन्होंने डीसीपी ग्रामीण रवि कुमार से शिकायत की और पुलिस कमिश्नर अजय कुमार मिश्र को फोन करके आपबीती सुनाई। इसके बाद दो फरवरी को उनकी रिपोर्ट दर्ज की गई। पुलिस के मुताबिक, विकास ने लिखित तहरीर नहीं दी थी। डीसीपी सिटी निपुण अग्रवाल ने बताया कि केस दर्ज कर लिया गया है। कार के नंबर के आधार पर धरपकड़ शुरू कर दी गई है। 

यह भी पढ़ें- Delhi News: हर्ष विहार इलाके में रोडरेज में डंडों से पीटकर तीन भाइयों को अधमरा किया

Edited By: Abhi Malviya