जागरण संवाददाता, वसुंधरा : ट्रांस ¨हडन में बंदरों का आतंक कम होने का नाम नहीं ले रहा है। मंगलवार को वसुंधरा सेक्टर-1 में बंदरों के झुंड ले लोगों को परेशान किया तो वहीं बुधवार को एक बीटेक छात्र पर हमला कर जख्मी कर दिया। स्थानीय लोगों ने नगर निगम, वन विभाग व पीपुल फॉर एनीमल्स संस्था से सख्त कदम उठाने की मांग की है। डरे हुए हैं स्थानीय लोग :

वसुंधरा में बंदरों के हमले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। बंदरों के खुले में घूमने से आए दिन बच्चों से लेकर बुजुर्ग तक इनका शिकार हो रहे हैं। वसुंधरा सेक्टर-1 में रहने वाले विनायक शर्मा पर बुधवार को बंदरों ने हमला कर उन्हें गंभीर रूप से घायल कर दिया। विनायक शर्मा के पिता कैलाश चंद्र शर्मा ने बताया कि इंद्रप्रस्थ कॉलेज में इंजीनिय¨रग का छात्र विनायक हर रोज की तरह कॉलेज खत्म कर घर आ रहा था। इस बीच वसुंधरा सेक्टर-3 में कवि कुमार विश्वास के पास एक बंदरों के झुंड उनकी तरफ आने लगा। सड़क पर भाग रहे बंदरों के बच्चों को बचाने के चक्कर में विनायक स्कूटी से गिर गए। जिससे बंदरों के झुंड में अफरा-तफरी मच गई। गुस्साए बंदरों ने विनायक पर हमला कर उन्हें घायल कर दिया है। आस-पास के लोगों ने बंदरों को भगाने के बाद किसी तरह विनायक को बंदरों के चंगुल से बचाया। नगर निगम के जोनल प्रभारी सुनील कुमार राय का कहना है कि बंदरों को पकड़ने का प्रावधान नहीं है। वन विभाग को सूचना देकर बंदर पकड़ने की कार्रवाई की जाएगी।

बंदरों से हो रहीं हैं ये परेशानियां :

- बंदर बालकनी से घर में घुस रहे हैं।

- बंदर छतों पर कपड़े फाड़ रहे हैं।

- बंदरों के डर से बालकनी व छत पर नहीं जा रहे लोग।

- बंदर लोगों से सामान झपटकर भाग रहे हैं।

- बंदर घरों के दरवाजे पर बैठे रहते हैं। कब कहां रहा बंदरों का आतंक

- फरवरी में इंदिरापुरम के शिप्रा रिवेरा सोसायटी में बंदरों ने चार लोगों को काटा

- फरवरी में ही वैशाली सेक्टर पांच में बंदरों के आतंक से परेशान लोगों ने पार्षद को घेरा

- जनवरी में वैशाली सेक्टर तीन में बंदरों ने दो लोगों को काटकर घायल किया

- पिछले साल नवंबर में इंदिरापुरम के न्याय खंड दो में बंदरों ने तीन को काटा

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप