जासं, गाजियाबाद : कविनगर थानाक्षेत्र के रहीसपुर में 11 मार्च को घर के बाह बैठे अधेड़ को उनके रिश्ते के दामाद ने ही गोली मारी थी। शादी में बुलेट बाइक की मांग पूरी न होने और परिवार में उनकी दखलअंदाजी को लेकर उसने घटना को अंजाम दिया था। कविनगर पुलिस ने घटना का पर्दाफाश कर बाइक चलाने वाले व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। मुख्य आरोपित हत्या के प्रयास के अन्य मुकदमे में तिहाड़ जेल में बंद है। यह था घटनाक्रम

रहीसपुर निवासी मोहम्मद इरशाद(50) को 11 मार्च की दोपहर एक बजे अपाचे सवार दो बदमाशों ने गोली मार दी थी। वह सामने वाले घर की स्लैब पर बैठे पड़ोसी इदरीश से बातचीत कर रहे थे। इसी दौरान बिना नंबर प्लेट की अपाचे बाइक पर बैठे दो नकाबपोश आए और पीछे बैठे व्यक्ति ने उन्हें गोली मार दी थी। गनीमत थी कि गोली उनके मुंह में एक ओर से लगकर दूसरी ओर निकल गई थी। तीन दांत टूटने के साथ मुंह में भी चोट आई थी। एसएचओ कविनगर राजकुमार शर्मा ने बताया कि गिरफ्तार आरोपित दिल्ली के जामियानगर निवासी नदीम है। पूछताछ में आरोपित ने बताया कि वह बाइक चला रहा था, जबकि उसके दोस्त एवं इरशाद के चचेरे दामाद आमिर ने गोली चलाई थी। उससे घटना में प्रयुक्त तमंचा बरामद हुआ है। बुलेट बाइक न मिलने से था खफा

इरशाद के छोटे भाई फुरकान(43) की फरवरी 2017 में हत्या कर दी गई थी। फुरकान के अपने साले कय्यूम पर 12 लाख रुपये उधार थे। मौत के बाद इरशाद ने पैसे ले लिए और फुरकान की दोनों बेटियों की शादी उनकी मौसी के लड़कों आमिर व शाहरुख से कर दी। दहेज में दोनों स्टार सिटी बाइक दी, जिसे लौटाकर उन्होंने बुलेट बाइक की मांग की। इसको लेकर दोनों में अक्सर कहासुनी होती थी। इसी बात को लेकर आमिर से उसकी पत्नी मुस्कान का भी झगड़ा हुआ था। घटना से कुछ दिन पहले वह रहीसपुर आकर रहने लगी थी। नदीम के मुताबिक आमिर इसको लेकर खफा था। इसीलिए उसने सबक सिखाने के लिए इरशाद को गोली मारी। गनीमत रही कि वह बाल-बाल बच गए।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस