जागरण संवाददाता, गाजियाबाद : लोनी में जलभराव की समस्या जल्द खत्म होगी। जीडीए इस क्षेत्र का ड्रेनेज प्लान तैयार कराने जा रहा है। इसके लिए सलाहकार की तलाश शुरू कर दी गई है। छह माह में ड्रेनेज प्लान तैयार करा लिया जाएगा।लोनी दिल्ली के सबसे करीब है, लेकिन नियोजित विकास न होने के कारण यहां कई तरह की दिक्कतें हैं। सबसे ज्यादा अवैध निर्माण यहां हुआ है। गंदे पानी निकासी की समस्या विकराल है। खाली प्लॉटों की तरफ गंदे पानी का रुख कर दिया जाता है। ऐसे में कुछ दिन बाद प्लॉट में तालाब बन जाता है। इस तरह से भरे पानी मे डूबने से कई लोगों की जान जा चुकी है। इस इलाके के जनप्रतिनिधि और निवासी ड्रेनेज सिस्टम विकसित करने की मांग करते रहे हैं। अब जीडीए ने उनकी मांग पर लोनी का मास्टरप्लान-2021 के अनुसार ड्रेनेज प्लान तैयार कराने का निर्णय लिया है। ड्रेनेज प्लान के लिए सलाहकार की तलाश शुरू कर दी गई है। उससे पहले लोनी क्षेत्र का टोपोग्राफिकल और डीटेल्ड सर्वे कराया जाएगा। फिर डीपीआर बनवाई जाएगी। ड्रेनेज प्लान बनने के बाद नाले-नालियों का निर्माण कराया जाएगा।

1971 में बनी नगर पालिका

लोनी पहले नगर पंचायत क्षेत्र था। 31 मार्च 1971 को इसे नगर पालिका बना दिया गया। यह जिला मुख्यालय से 17 किलोमीटर दूर है, लेकिन उत्तर पूर्वी दिल्ली के बिलकुल करीब है।

लोनी से जुड़े तथ्य

क्षेत्रफल : 34.48 वर्ग किलोमीटर

आबादी : 5,16,082

वार्ड : 55 लोनी में जल निकासी व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए ड्रेनेज प्लान बनवाने का निर्णय हुआ है। जल्द इसकी डीपीआर तैयार कराई जाएगी। सलाहकार नियुक्त करने के लिए आवेदन मांगे गए हैं।

- विवेकानंद सिंह, मुख्य अभियंता, जीडीए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप