जागरण संवाददाता, गाजियाबाद: पूर्वी दिल्ली से सटे लोनी क्षेत्र की हवा सबसे ज्यादा दूषित है। प्रदूषण की रोकथाम करने के लिए गाजियाबाद व दिल्ली के अफसरों की संयुक्त टीम को काम करने की जरूरत है। इस संबंध में गाजियाबाद के जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय ने पूर्वी दिल्ली के जिलाधिकारी को पत्र भेजकर संयुक्त कार्ययोजना बनाकर सख्ती से कार्रवाई करने की बात कही है।

उन्होंने बताया कि वायु प्रदूषण की रोकथाम के लिए पिछले दिनों सर्वे कराया गया। इसमें यह पाया गया है कि लोनी क्षेत्र का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआइ) जनपद के क्षेत्रों से अधिक है। पिछले दिनों लोनी के अमित विहार में गाजियाबाद प्रशासन ने अवैध रूप से चल रही 109 भट्टियों को ध्वस्त कराया था। इसके बाद जांच में सामने आया कि इन भटिठ्यों में गलाने के लिए ई-कचरा, मैटल स्क्रैप, प्लास्टिक व बैट्रियां पूर्वी दिल्ली से ही आती हैं। इससे यह स्पष्ट है कि पूर्वी दिल्ली में स्क्रैप के निस्तारण की व्यवस्था नहीं है। इसीलिए पूर्वी दिल्ली से अधिकांश स्क्रैप गलाने के लिए लोनी क्षेत्र में भेजा जा रहा है। इसी कारण पत्र भेजकर संयुक्त कार्रवाई की बात कही गई है।

संयुक्त कार्रवाई से अच्छे नतीजे आएंगे सामने: जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय ने बताया कि कि दिल्ली और गाजियाबाद के विभिन्न विभागों की टीम जब संयुक्त रूप से प्रदूषण की रोकथाम के लिए योजना बनाकर काम करेगी तो निश्चित ही अच्छे नतीजे सामने आएंगे। आपसी तालमेल बैठाकर काम करना वायु प्रदूषण की रोकथाम के लिए प्रभावी साबित होगा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस