जागरण संवाददाता, साहिबाबाद : हरनंदी को प्रदूषण से बचाने के लिए अर्थला झील के पास बुधवार को निगम की ओर से गणपति और दुर्गा पूजन मूर्ति विसर्जन के लिए अस्थायी घाट तैयार करना शुरू कर दिया। यहां सुबह से ही निगम की टीम घाट की सफाई में जुटी रही।

नगर निगम ने जलकुंभी हटाने के साथ ही बुधवार को मार्ग समतल किया। घाट पर शनिवार से मूर्ति विसर्जन की प्रक्रिया शुरू होगी। जिला प्रशासन की ओर से यहां सीसीटीवी कैमरे लगवाए जाएंगे। मूर्ति विसर्जित करने वाले श्रद्धालुओं का पूरा रिकॉर्ड तैयार किया जाएगा। इस दौरान नगर निगम, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की टीम और पुलिस भी मौजूद रहेगी। झील के पास की गई बैरिके¨डग

एनजीटी के आदेश पर जिला प्रशासन और नगर निगम की ओर से हरनंदी नदी पर मूर्ति विसर्जन पर रोक लगाई गई है। इसके लिए अस्थायी घाट और अर्थला झील पर विसर्जन कुंड तैयार किया गया है। कोई इधर उधर मूर्ति नहीं डाले इसके लिए बैरिके¨डग की जा रही है। नगर निगम मोहन नगर जोन के जोनल प्रभारी एसके गौतम ने बताया कि अस्थायी घाट पर सफाई और प्रकाश की व्यवस्था की जाएगी। यहां पर पांच सीसीटीवी कैमरे लगवाए जाएंगे। घाट पर विसर्जन के लिए साफ पानी छोड़ा गया है। श्रद्धालुओं को कोई परेशानी नहीं होगी। इस पूरे रूट पर सफाई करवाई गई है। निगम ने हरनंदी नदी के घाट पर चेतावनी बोर्ड लगवाए हैं। नगर आयुक्त सीपी ¨सह ने बताया कि एनजीटी के आदेश पर हरनंदी नदी पर मूर्ति विसर्जन और कूड़ा-कचरा डालने पर रोक लगाई गई है। कोई आदेश का उल्लंघन करता है तो 20 हजार रुपये जुर्माना वसूला जाएगा। गली-मोहल्लों और कॉलोनी में कूड़ा-कचरा फैलाने पर 500 रुपये जुर्माना वसूला जाएगा।

Posted By: Jagran