जागरण संवाददाता, गाजियाबाद: पथरी का आपरेशन करने के नाम पर महिला मरीज से 14 हजार रुपये की सुविधा शुल्क मांगने का मामला गरमा गया है। शनिवार को प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्यमंत्री अतुल गर्ग की सख्ती पर जिला एमएमजी अस्पताल के सीएमएस डा. अनुराग भार्गव ने कथित दलाल कामिल के खिलाफ एफआइआर हेतु कोतवाली पुलिस को तहरीर भेज दी है। बता दें कि बृहस्पतिवार को जिला एमएमजी अस्पताल में पथरी का आपरेशन कराने पहुंची कुछ महिलाओं ने हंगामा कर दिया था। चिकित्सक एवं स्टाफ पर आपरेशन के एवज में 14 हजार रुपये की सुविधा शुल्क मांगने का आरोप लगाया गया था। डा. आरपी सिंह और डा. अवधेश प्रकरण की जांच कर रहे हैं। कड़कड़ माडल निवासी नितिन कुमार की पत्नी विनीता और सुमन ने पैसा न देने के साथ ही आपरेशन कराने से इंकार कर दिया। विनीता कागजों को फेंककर चली गई थी।

----------

एक साल से चिकित्सक नहीं, बंद हुआ केंद्र जिला एमएमजी अस्पताल में संचालित किया गया आयुष अनुभाग एक साल से बंद पड़ा है। कार्यरत स्टाफ की ड्यूटी कोविड में लगने की वजह से केंद्र बंद पड़ा हुआ है। सीएमएस डा. अनुराग भार्गव के मुताबिक आयुर्वेदिक दवाओं की सुविधा देने के लिए एक आयुष विग बनाया हुआ है, जिसमें डाक्टर और अन्य स्टाफ नियुक्त किया गया था लेकिन सीएमओ स्तर से स्टाफ की ड्यूटी कोविड में लगाए जाने से केंद्र बंद पड़ा है।

-------------

कामिल नाम का व्यक्ति अस्पताल में कुछ दिन पहले तक इंटर्न था। अब वह मरीजों से आपरेशन कराने के नाम पर पैसा लेता है। एफआइआर हेतु पुलिस को तहरीर भेज दी गई है। दो सदस्यीय समिति अलग से जांच कर रही है।

- डा. अनुराग भार्गव, सीएमएस जिला एमएमजी अस्पताल

Edited By: Jagran