मदन पांचाल, गाजियाबाद : गाजियाबाद में तैनात सात सौ होमगार्डों को दिए जाने वाले करीब सात करोड़ रुपये के एरियर के भुगतान से पूर्व जांच होगी। मस्टररोल्स की जांच के लिए पांच अफसरों की एक समिति गठित की जाएगी। शासन के प्रमुख सचिव अनिल कुमार द्वारा डीएम गाजियाबाद को जांच के लिए आदेश जारी किए गए हैं।

प्रमुख सचिव के आदेश के मुताबिक होमगा‌र्ड्स स्वयंसेवकों को पहले 375 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से ड्यूटी भत्ता दिया जाता था,जिसे सरकार ने बढ़ाकर सात सौ रुपये कर दिया है। हाईकोर्ट के आदेश के अनुसार 6 दिसंबर 2016 से 30 सितंबर 2019 तक का एरियर प्रत्येक होमगार्ड को दिया जाना है। अनुमानित एक होमगार्ड को एक से डेढ़ लाख रुपये का भुगतान किया जाना है। चूंकि नोएडा में वेतन घोटाले के बाद पूरे प्रदेश में मस्टररोल्स को लेकर जांच चल रही है, ऐसे में एरियर भुगतान से पहले उक्त अवधि तक के कुल 34 माह के मस्टररोल्स की जांच के आदेश जारी किए गए हैं। इस अवधि में यह भी जांचा जाएगा कि होमगार्डों ने ड्यूटी की है अथवा नहीं। जांच आदेश में लिखा है कि उपहार पोर्टल पर उपलब्ध उक्त 34 माह की डयूटी सूची से मस्टररोल्स के साथ संलग्न कंपयूटर के माध्यम से लगाई गई ड्यूटी एवं मस्टररोल के नाम से मिलान किया जाना अनिवार्य है। जिले में कुल सात सौ होमगार्डों को एरियर का भुगतान किया जाना है। वर्तमान में कुल 566 होमगार्डों ऑन डयूटी है। इनमें प्रशासन के पास 136,एसएसपी से अटैच 238,डायल 100 से अटैच 103, डासना जेल में पोस्ट 42,जीडीए में ड्यूटी दे रहे 34 होमगा‌र्ड्स शामिल है।

-

एरियर भुगतान से पहले शासन स्तर से 34 माह के मस्टररोल्स की जांच के आदेश प्राप्त हुए है। जांच के लिए प्रशासन स्तर पर गठित की जाने वाली समिति की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। यह जांच सात सौ होमगा‌र्ड्स से जुडे एक-एक दिन के मस्टररोल की होगी। जांच में होमगार्डों के साथ ही कंपनी कमांडर एवं थाना प्रभारियों से भी मस्टररोल्स की सत्यापित प्रतिलिपि ली जाएगी।

- गिरिराज सिंह, जिला कमांडेंट होमगा‌र्ड्स, गाजियाबाद

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस