जासं, गाजियाबाद: साल 2021 में गाजियाबाद में रहने वाले हजारों लोगों का बिजली, पानी और आवास का सपना पूरा हुआ है। हालांकि अभी भी बड़ी संख्या में लोग इन सुविधाओं से वंचित हैं। जिनके पास जमीन है, लेकिन आवास बनाने के रुपये नहीं हैं, उनको प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के तहत तीन किस्तों में 2.50 लाख रुपये दिए जा रहे हैं। इस साल 3,462 लोगों को इस योजना के तहत लाभ मिला है। वर्ष 2024 तक हर घर को नल से जल मिलने की योजना पर इस साल तेजी लाई गई और 85 हजार लोगों को इसका लाभ मिला है। 15 हजार लोगों को बिजली के कनेक्शन भी दिए गए हैं। बाक्स.. प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी

नगर निकाय कुल बनने योग्य आवास बन चुके आवास

नगर निगम गाजियाबाद 12,224 10,782

नगर पालिका परिषद लोनी 4,179 3,593

नगर पालिका परिषद मोदीनगर 1,458 1,028

नगर पालिका परिषद मुरादनगर 1,201 720

नगर पंचायत डासना 755 483

नगर पंचायत निवाड़ी 667 479

नगर पंचायत फरीदनगर 1,643 1,392

नगर पंचायत पतला 958 713

कुल 23,085 19,190 नोट: आंकड़े शुरुआत से एक दिसंबर 2021 तक के हैं।

बाक्स..

तैयार हो रहे 5,823 भवन

अपर सचिव सीपी त्रिपाठी ने बताया कि गाजियाबाद विकास प्राधिकरण ने विभिन्न योजनाओं के तहत 186 लोगों को आवास उपलब्ध करवाए हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 5,823 भवन गाजियाबाद विकास प्राधिकरण और निजी विकासकर्ता द्वारा तैयार किए जा रहे हैं।

बाक्स.. पानी की व्यवस्था : एक नजर में शहरी क्षेत्र :

शहर में शीर्ष हिडन क्षेत्र पार्ट टू फेस एक के तहत नौ नलकूप लगाने चार सीडब्ल्यूआर तैयार करने का कार्य पूरा हो गया है। चार जोन में पानी की आपूर्ति होनी है। दो जोन में आपूर्ति का कार्य शुरू है। खासकर प्रताप विहार के पास रहने वाले 35 हजार लोगों को इसका लाभ मिला है। अन्य दो जोन में 15 दिन में पेयजल आपूर्ति करने का कार्य शुरू होगा। शीर्ष हिडन क्षेत्र पार्ट टू फेस टू के तहत डूंडाहेड़ा में एक सीडब्ल्यूआर और ओवरहेड टैंक बना है। विद्युत संयोजन का कार्य बाकी है। इससे तीन जोन में पानी का संकट दूर होगा। लोनी : लोनी में लोनी पुनर्गठन पेयजल योजना पार्ट वन के तहत 14 नए नलकूप लगे हैं। चार नलकूप रिबोर हुए हैं। इनमें से आठ नलकूप चालू हैं। इससे 50 हजार लोगों को पेयजल की सुविधा मिली है। अन्य नलकूप को 15 दिन में चालू किया जाएगा। इससे कुल 1.25 लोग लाभान्वित होंगे।

ट्रांस हिडन क्षेत्र : मोहननगर जोन में 1.50 लाख से अधिक लोगों को पेयजल मुहैया कराने के लिए छह रेनीवेल बनाने का कार्य कराया जा रहा है। इनमें से तीन रेनीवेल का कार्य 80 फीसद पूरा हो गया है। तीन का कार्य 30 फीसद हुआ है। 2022 में सभी छह रेनीवेल चालू हो जाएंगे। इससे 1.50 लाख लोगों को राहत मिलेगी। ग्रामीण क्षेत्र :

ग्रामीण क्षेत्र में 152 गांवों में नल से जल देने की तैयारी है। इनमें से 72 गांवों में पानी देने के लिए डीपीआर तैयार है। 16 गांवों में कार्य शुरू है। गांव में ट्यूबवेल लगेंगे व ओवरहेड टैंक बनेंगे। पाइपलाइन से घरों में पानी की आपूर्ति होगी। 100 करोड़ रुपये की लागत से यह कार्य पूरा होगा। इससे लाखों लोगों को पेयजलापूर्ति होगी।

सुधरी बिजली व्यवस्था:

साल 2021 में बिजली के क्षेत्र में सरकार की मंशा के अनुरूप हर घर रोशन के तहत जिले में 15 हजार से अधिक कनेक्शन हुए हैं। शहर में निर्बाध विद्युत आपूर्ति के लिए फीडर के अलावा बुलंदशहर रोड (बीएस रोड) औद्योगिक क्षेत्र में जर्मन तकनीक से बने विद्युत उपकेंद्र का उद्धाटन हुआ है। इससे प्रताप विहार में 132 केवी उपकेंद्र पर ओवरलोड होने पर आए दिन फाल्ट होने से मुक्ति मिली। उपकेंद्र के चालू होने से प्रताप विहार के अलावा इससे पांच अन्य फीडर को भी जोड़ा गया। इससे करीब 25 हजार से अधिक औद्योगिक व घरेलू उपभोक्ताओं को लाभ मिला।

वर्जन.. प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी का लाभ लेने के लिए जिन्होंने डूडा कार्यालय में आवेदन किया है, उनको योजना का लाभ दिलाया गया है। जिनके आवेदन लंबित हैं, उनकी जांच जल्द पूरी कराई जाएगी, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को योजना का लाभ मिले।

- महेंद्र सिंह तंवर, परियोजना निदेशक, डूडा।

ज्यादा से ज्यादा लोगों को नल से जल मिले, इसके लिए तेजी से कार्य हो रहा है। विजयनगर में दो योजनाएं हैं। इनमें से एक कार्य का लगभग पूरा है। दूसरी योजना का कार्य जल्द ही पूरा होगा।

-आकाश त्यागी, अधिशासी अभियंता,जल निगम।

विद्युत कनेक्शन के लिए जो लोग आवेदन कर रहे हैं, उनको जल्द ही विद्युत कनेक्शन दिया जा रहा है। शहर व देहात क्षेत्र में कवर्ड लाइन डाली गई, जिससे आंधी, बारिश में तार टूटने की समस्या से निजात मिली। इससे बिजली चोरी में भी कमी आई।

- एसके पुरवार, मुख्य अभियंता, विद्युत विभाग।

Edited By: Jagran