जागरण संवाददाता, गाजियाबाद : लोग यही जानते थे कि जीडीए के इंजीनियर और कर्मचारी ईंट-रोड़ी से वास्ता रखते हैं। घर बनवाते हैं और अवैध निर्माण होने पर कार्रवाई करते हैं। लॉकडाउन के दौरान उनका दूसरा चेहरा लोगों के सामने आया है। इन दिनों इंजीनियर और कर्मचारी मानवीय सेवा में लगे हुए हैं। कुछ क्वारंटाइन में रखे गए कोरोना संदिग्धों के लिए खाना बनवा रहे हैं। कई लोगों को कोरोना से बचाने के लिए ग्रुप हाउसिग सोसायटियों को बिल्डर और आरडब्ल्यूए से अपने सामने सैनिटाइज करा रहे हैं। कुछ हॉट स्पॉट इलाकों में निगरानी कर रहे हैं। कुल मिलाकर इनकी कोशिश है कि किसी तरह कोरोना को फैलने से रोका जा सके।

जीडीए सचिव संतोष कुमार राय ने बताया कि प्राधिकरण के इंजीनियर और कर्मचारी इस मुश्किल वक्त में लोगों की सेवा कर रहे हैं। नियमित रूप से क्वाइंटाइन सेंटरों का निरीक्षण किया जा रहा है। इसके अलावा वहां भर्ती कोरोना संदिग्धों के लिए इंजीनियर और कर्मचारी अपनी निगरानी में सामुदायिक रसोई में खाना तैयार करा रहे हैं, जिससे हाइजीन का पूरा ख्याल रखा जा सके। उन्होंने बताया कि पहली बार इस तरह का अनुभव इंजीनियर और कर्मचारियों को हो रहा है। इस कसौटी पर प्राधिकरण का स्टाफ खरा उतर रहा है। यही नहीं नियमित रूप से प्रवर्तन और अभियंत्रण में तैनात इंजीनियर और उनके अधीन स्टाफ निर्माणाधीन प्रोजेक्ट में रह रहे श्रमिकों को खाना बंटवा रहे हैं। ताकि कोई भूखा न सोए। उनको बिल्डर से मानदेय दिलवाया जा रहा है। सोसायटियों को सैनिटाइज करा रहे हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस