गाजियाबाद, जेएनएन। कांवड़ यात्रा के लिए 22 जुलाई से मेरठ रोड पर भारी वाहनों को पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया जाएगा। जिले में प्रतिबंधित मार्गों पर भारी वाहनों का आवागमन नहीं होगा। टीआइ परमहंस तिवारी ने बताया कि 25 जुलाई से मेरठ रोड पर हल्के वाहनों का संचालन भी बंद कर दिया जाएगा।

यहां होगा डायवर्जन
- दिल्ली से मेरठ, मुजफ्फरनगर हरिद्वार जाने वाले भारी वाहन यूपी गेट से एनएच-9 होते हुए डासना व पिलखुआ से जाएंगे।
- दिल्ली से यूपी बार्डर, महाराजपुर बार्डर व ज्ञानी बार्डर से गाजियाबाद में प्रवेश करने वाले वाहनों को गाजीपुर चौक से यूपी गेट होते हुए एनएच-9 से भेजा जाएगा।
- दिल्ली-मथुरा-बदरपुर की तरफ दिल्ली होकर बुलंदशहर की तरफ जाने वाले वाहन गाजियाबाद में पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेंगे। इन्हें नोएडा ओखला बैराज, डीएनडी होते हुए एक्सप्रेस वे से निकाला जाएगा।
-बुलंदशहर से आने वालों को एक्सप्रेस वे होते डीएनडी औखला बैराज से भेजा जाएगा।
-लोनी की तरफ से आने वाले सभी वाहनों को भोपुरा बार्डर, दिल्ली सीमा पुरी, आनंद विहार होते हुए एनएच-9 से विजयनगर बाइपास होते हुए आत्माराम स्टील तिराहा, हापुड़ चुंगी शहर में प्रवेश दिया जाएगा।
-गाजियाबाद से मोदीनगर आने-जाने वाले सभी वाहनों को हापुड़ चुंगी, आत्माराम स्टील, पिलखुआ से ऑर्डिनेंस फैक्ट्री से फरीदपुर होते हुए आवागमन करेंगे।
- मेरठ से गाजियाबाद व गाजियाबाद से मेरठ की तरफ आने जाने वाले भारी वाहनों का आवागमन पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा। यदि कोई वाहन गलती से इस सीमा में प्रवेश करता है तो उसे राज चौपला मोदीनगर से भोजपुर की तरफ निकाला जाएगा।
-पुराना बस अड्डा की तरफ आने वाली बसों तथा भारी वाहनों को डासना तिराहे से गाजियाबाद शहर मे प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। इन बसों को एनएच-9 होते हुए यूपी गेट से आगे निकाला जाएगा।

इस रूट पर पूर्ण रूप से प्रतिबंधित रहेंगे वाहन
-मोहननगर से लोनी-भौपुरा, ज्ञानी बार्डर, महाराजपुर बार्डर की तरफ आने जाने वाले भारी वाहन पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेंगे।
-एनएच-9 से भारी वाहनों के लिए इंदिरापुरम रेड लाइट, काला पत्थर, सीआईएसएफ से प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा।
-इसी तरह एनएच-9 से संतोष मेडिकल कट से नई लिंकरोड से होकर मेरठ तिराहा के लिए प्रवेश पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा।

कांवड़ यात्रा के लिए रोडवेज बनाएगा कंट्रोल रूम
कांवड़ यात्रा के दौरान रोडवेज की बसें जाम में ना फंसे इसके लिए रीजन में एक कंट्रोल रूम बनाया जाएगा। कंट्रोल रूम के जरिए बसों की निगरानी होगी और उनको जाम से बचाने के लिए वैकल्पिक रास्तों से गंतव्य तक भेजा जाएगा। इसके लिए जल्द ही रोडवेज के क्षेत्रीय प्रबंधक सभी एआरएम की बैठक लेंगे और उनको दिशा-निर्देश देंगे।

इस दौरान रोडवेज को अतिरिक्त बोझ बढ़ने का भी अनुमान है। साथ ही आय पर भी कांवड़ यात्रा का प्रभाव पड़ेगा। रोडवेज के क्षेत्रीय प्रबंधक अखिलेश कुमार सिंह ने बताया कि जुलाई के तीसरे और चौथे सप्ताह में कांवड़ का विशेष जोर रहेगा। इस दौरान 200 से अधिक बसों पर कांवड़ यात्रा का प्रतिदिन असर पड़ेगा।

कांवड़ यात्रा के चलते रोडवेज की आय भी कम होगी और मार्ग डायवर्जन के चलते बसों को लंबी दूरी तय करनी पड़ेगी, इससे डीजल की खपत भी बढ़ेगी। जल्द ही कंट्रोल रूम बनाया जाएगा। जिसके जरिए बसों की मॉनिट¨रग होगी और उनको अलग-अलग स्थानों से भेजा जाएगा। इसके लिए इसी सप्ताह एआरएम के साथ बैठक की जाएगी।
 

दिल्ली-NCR की ताजा खबरों और महत्वपूर्ण स्टोरीज को पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप