जागरण संवाददाता, इंदिरापुरम (गाजियाबाद): शक्तिखंड दो के मात्रिका अस्पताल में प्रसव के दौरान महिला के जलने के मामले में पुलिस ने महिला डॉक्टर और स्टाफ के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। आरोप है कि बीती 14 अगस्त को प्रसव के बाद डॉक्टरों ने गर्म पानी की बोतल महिला के सीने पर रख दी। इससे महिला जल गई और छाले पड़ गए। दूध नहीं पिला पाने के कारण उनका नवजात बच्चा भी पीलिया की चपेट में आ गया। मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) की रिपोर्ट के बाद रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस डॉक्टर की गिरफ्तारी के प्रयास में जुटी है।

नोएडा की गौड़ सिटी स्थित पांचवी एवेन्यू सोसायटी निवासी अपूर्वा परिवार के साथ रहती है। बीती 14 अगस्त को प्रसव के लिए वह शक्तिखंड दो स्थित मात्रिका अस्पताल में भर्ती हुई थी। ऑपरेशन के बाद उन्होंने बेटे को जन्म दिया। एनेस्थीसिया का असर होने के चलते वह बेहोशी की हालत में थीं। आरोप है कि ऑपरेशन के दो घंटे बाद उन्हे अपने सीने पर जलन महसूस हुई। दर्द अधिक हुआ तो वह चिल्लाने लगीं। परिजन और नर्स उनके पास पहुंचीं तो उनके सीने पर गर्म पानी की रबड़ की बोतली रखी थी। नर्स ने तुरंत बोतल हटाई तो उनके सीने पर जलने से छाले बन गए थे। साथ ही काफी गहरे घाव हो गए थे। आरोप है कि अस्पताल में कोई भी बर्न विशेषज्ञ नहीं था, इसके चलते वह 17 अगस्त को डिस्चार्ज हुईं और दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती हुईं। उन्होंने आरोपित अस्पताल का 70 हजार रुपये का बिल भी चुकाया। आरोप है कि जलने के चलते वह नवजात बेटे को दूध नहीं पिला पा रही हैं। इसके कारण बेटे को पीलिया हो गया। डॉक्टरों का कहना है कि वह उनके घाव दो माह में भर सकेंगे। तब तक वह बेटे को दूध नहीं पिला सकेंगीं। अस्पताल के डायरेक्टर डा. निशांत त्यागी को कॉल किया गया तो उन्होंने जवाब नहीं दिया।

अस्पताल की डॉक्टर और स्टाफ के खिलाफ दर्ज हुई रिपोर्ट: पीड़िता की शिकायत के बाद सीएमओ ने मामले की जांच की। जांच में अस्पताल की लापरवाही सामने आने के बाद पुलिस को रिपोर्ट दर्ज करने के आदेश दिए गए हैं। महिला का ऑपरेशन करने वाली डा. अंजना ¨सह व अन्य अज्ञात स्टॉफ के खिलाफ गंभीर लापरवाही की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की गई है। पुलिस जल्द ही उनकी गिरफ्तारी करेगी।

महिला की शिकायत पर रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है। डॉक्टर की लापरवाही सामने आने के बाद मामले में गिरफ्तारी की जाएगी। महिला डॉक्टर के बयान दर्ज किए जाएंगें।

- रवि कुमार, सीओ इंदिरापुरम

Posted By: Jagran