जागरण संवाददाता, मोदीनगर :

भोजपुर थाना क्षेत्र के मोहम्मदपुर-सुजानपुर गांव में तहसीलदार उमाकांत तिवारी व आपूíत अधिकारी ने बृहस्पतिवार रात को छापेमारी की। मौके से अधिकारियों ने 98 कुंतल राशन के गेहूं और चावल बरामद किए। जांच में सामने आया कि डीलर ने राशन पिलुखवा निवासी युवक को बेचा था। जो ट्रक में भरकर सुरक्षित स्थान ले जा रहा था। दोनों को मौके पर गिरफ्तार कर अधिकारियों ने राशन को अपने कब्जे में ले लिया है। डीएम ने दोनों के खिलाफ एनएसए की कार्रवाई करने के आदेश दिए हैं। भोजपुर थाने में दोनों के खिलाफ रिपोर्ट भी दर्ज कराई गई है।

डीएम अजय शंकर पांडेय को बृहस्पतिवार की रात सूचना मिली कि भोजपुर के मोहम्मदपुर-सुजानपुर गांव में राशन डीलर राजकुमार राशन के गेहूं और चावलों की खेप को ट्रक में भरवाकर कहीं भेज रहे हैं। डीएम ने त्वरित कार्रवाई करते हुए तहसीलदार मोदीनगर उमाकांत तिवारी, आपूíत अधिकारी एसपी मालवीय को मौके पर भेजा। ट्रक में चावल और गेहूं को लादते हुए पुलिस ने राशन डीलर राजकुमार और पिलखुवा निवासी हेमंत को पकड़ लिया। ट्रक और कमरे में रखा करीब 98 कुंतल माल बरामद हुआ। तहसीलदार के आदेश पर पुलिस ने राजकुमार और हेमंत को गिरफ्तार कर लिया। छानबीन में सामने आया कि हेमंत ने ही गेहूं और चावल को बाजार भाव से सस्ते भाव में खरीदा था। पूरी जांच करने से पता चला कि राशन डीलर ने कार्ड धारकों के हिस्से की कटौती करके कई जगह से माल को एक जगह इकट्ठा किया था। आरोपित इससे पहले भी राशन को इसी तरह बेचते रहे हैं और रिकॉर्ड में इसकी फर्जी एंट्री कर खानापूरी की जाती थी। पूछताछ करने पर यह भी पता चला कि राजकुमार के साथ दूसरे राशन डीलर भी मिले हुए थे। जो एक जगह माल को इकट्ठा कर बेचते थे। आपूíत विभाग ने राजकुमार और हेमंत के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई। उधर, डीएम अजय शंकर पांडेय ने राशन डीलर और खरीदार हेमंत पर एनएसए की कार्रवाई करने के आदेश भी दिए हैं। डीएम ने बताया कि किसी भी सूरत में जरूरतमंदों का हक मारने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। चावल में होती है सबसे ज्यादा गड़बड़ी: विभागीय अधिकारियों की मानें तो राशन डीलर सबसे ज्यादा गड़बड़ी चावल में करते हैं। गांव देहात में अधिकांश लोगों को राशन में आने वाली सामग्री का पता नहीं होता। गेहूं को छोड़कर कुछ लोग स्वत: भी चावल, चना आदि सामग्री नहीं लेते है। राशन डीलर ऐसे लोगों की सूची तैयार करके उनके हिस्से की सामग्री को ज्यादा दामों में बेचकर अच्छा पैसा कमाते हैं। कई बार राशन डीलर उपर से कम गेहूं मिलने की बात कहकर कार्ड धारकों को निर्धारित से कम गेहूं देते हैं। उनके हिस्से का बचा हुआ गेहूं कालाबाजारी कर देते हैं।

Posted By: Jagran

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस