जागरण संवाददाता, गाजियाबाद : बढ़ती जनसंख्या न केवल परेशानी का सबब बन रही है, बल्कि विकास में बाधा की सबसे बड़ी बाधा बन गई है। बावजूद इसके गाजियाबाद जिले के लोगों ने सरकार की ओर से चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं का लाभ उठाकर स्वरोजगार के माध्यम से बेरोजगारी को हराते हुए सफलता हासिल की है।

गाजियाबाद में जनवरी से दिसंबर 2021 तक रोजगार मेलों में 2043 लोगों को विभिन्न कंपनियों में नौकरी मिली। साल 2022 में रोजगार मेलों के माध्यम से शिक्षित और योग्य युवाओं के लिए सरकार अवसर मुहैया करा रही है। बीते साल 2021 में उत्तर प्रदेश सरकार की विभिन्न योजनाओं के तहत 1727 बेरोजगारों को विभिन्न वर्गों में प्रशिक्षण देकर स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध कराते हुए टूल किट का निशुल्क वितरण किया गया। इस साल भी जिला उद्योग विभाग द्वारा प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम और मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत प्रशिक्षण देकर युवाओं को रोजगार देने की योजना जारी है। इस साल भी काफी संख्या में बेरोजगारों को रोजगार व उद्योग लगाने के लिए विभाग द्वारा स्वीकृति दी जाएगी। ताकि रोजगार के अवसर अधिक से अधिक पैदा हों। वहीं, श्रम विभाग की ओर से कर्मकार योजना के तहत विभिन्न श्रेणी के अकुशल कामगारों को प्रशिक्षण प्रदान कर कुशल श्रमिक बनाया जा रहा है। फिर विभाग द्वारा औजार के लिए एक तय राशि दी जाएगी। विभाग द्वारा श्रमिकों को बीमा का भी लाभ दिया जा रहा है।

---------------

खादी ग्रामोद्योग की ओर से माटीकला योजना और समूह के माध्यम से महिलाओं और बेरोजगार लोगों को स्वरोजगार के लिए अलग-अलग श्रेणियों में प्रशिक्षण देकर आत्मनिर्भर बनाया जाएगा। निश्शुल्क प्रशिक्षण के बाद टूल किट का वितरण किया जाएगा।

संजय कुमार, खादी एवं ग्रामोद्योग अधिकारी

------------

सेवायोजन विभाग बेरोजगारों को रोजगार दिलाने के लिए लगातार रोजगार मेलों का आयोजन कर रहा है। इसका लाभ भी युवाओं को मिल रहा है। प्लेसमेंट कंपनियां युवाओं को उनकी योग्यता अनुसार लगातार नौकरी दे रही हैं, जो साल 2022 में भी जारी रहेगी।

- एसके सिंह, जिला सेवायोजन अधिकारी

Edited By: Jagran