गाजियाबाद, आनलाइन डेस्क। मतदाताओं की संख्या के लिहाज से उत्तर प्रदेश की सबसे बड़ी साहिबाबाद विधानसभा सीट पर समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने अमरपाल शर्मा टिकट दिया है। 2017 में कांग्रेस पार्टी से चुनाव लड़ने वाले अमर पाल शर्मा जून, 2021 में ही समाजवादी पार्टी में शामिल हुए थे। इस बार साहिबाबाद सीट से वह समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल के संयुक्त प्रत्याशी हैं।

बता दें कि गाजियाबाद में पांच विधानसभा क्षेत्रों में से साहिबाबाद में सबसे अधिक 10 लाख से अधिक मतदाता हैं। इस विधानसभा क्षेत्र में पुरुष मतदाताओं की संख्या 5.71 लाख और महिला मतदाताओं की संख्या 4.40 लाख है। वहीं मोदीनगर विधानसभा क्षेत्र में सबसे कम 3.3 लाख मतदाता हैं। जिले में 189 वोटर ट्रांसजेंडर हैं।

हर बार नए राजनीतिक दल से चुनाव लड़ते हैं अमरपाल शर्मा

गाजियाबाद के अमरपाल शर्मा के बारे में मशहूर है कि वह हर बार नए राजनीतिक दल से चुनाव लड़ते हैं। इस बार समाजवादी पार्टी के टिकट पर अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। इससे पहले वर्ष 2012 में बहुजन समाज पार्टी और 2017 में कांग्रेस से विधानसभा चुनाव लड़ चुके हैं। 

दरअसल, अमरपाल शर्मा ने कांग्रेस-एसपी के संयुक्त उम्मीदवार के तौर पर 2017 का विधानसभा चुनाव लड़ा था और हार गए। उसके बाद गुपचुप तरीके से बीएसपी में गए अमरपाल लंबे समय से अपने क्षेत्र में निष्क्रिय नजर आ रहे थे। दल कोई भी हो, हर चुनाव में अमरपाल टिकट पाने में सफल रहे हैं। 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में टिकट के लिए जून 2021 में उन्होंने समाजवादी पार्टी का दामन थाम लिया था और अब उन्हें साहिबाबाद से टिकट भी मिल गया है।

गजेंद्र भाटी हत्याकांड में आरोपित हैं अमरपाल

अमरपाल शर्मा गाजियाबाद के बहुचर्चित गजेंद्र भाटी हत्याकांड में आरोपित भी हैं। खोड़ा के गजेंद्र भाटी हत्याकांड में अमरपाल शर्मा महीनों तक जेल में बंद रहे। हालांकि उन्होंने आरोप लगाया था कि भाजपा की उत्तर प्रदेश सरकार ने उनका उत्पीड़न किया। इस मामले में जबरन उनको फंसाया गया है।

गौरतलब है कि मतदाताओं की संख्या के लिहाज से यूपी की सबसे बड़ी विधानसभा साहिबाबाद की सीट से वर्तमान में साहिबाबाद से भाजपा के सुनील शर्मा विधायक हैं। गाजिबाद की पांच विधानसभा सीटों के लिए होने वाले मतदान की अधिसूचना शुक्रवार को जारी हुई। नामांकन पत्र भरने की अंतिम तारीख 21 जनवरी है। 24 जनवरी को नामांकन पत्रों की जांच होगी। नाम वापिसी की अंतिम तारीख 27 जनवरी है। 10 फरवरी को पहले चरण का मतदान होगा और परिणाम 10 मार्च को आएगा। एनसीआर में आने वाली हापुड़, गौतबुद्धनगर और गाजियाबाद की 11 सीटों (नोएडा, दादरी, जेवर, गढ़मुक्तेश्वर, हापुड़, धौलाना, गाजियाबाद, साहिबाबाद, मोदी नगर, मुरादनगर और लोनी) में ज्यादातर पर भारतीय जनता पार्टी का कब्जा है।

जानिये- कौन हैं राजकुमार भाटी, जिन पर दादरी सीट पर अखिलेश यादव ने लगाया दांव

यूपी चुनाव 2022 : उम्मीदवारों के लिए रेट कार्ड जारी, चाय-समोसे तक पर रखी जाएगी नजर; देखिये लिस्ट

एक के बाद एक सक्रिय हो रहे हैं 3 नए पश्चिमी विक्षोभ, यहां पढ़िये दिल्ली के मौसम का ताजा हाल

Koo App

लहर नही ललकार होगा।। आंधी नही तूफ़ान होगा।। बाइस में बदलाव होगा।। समाजवादी सरकार होगा।।

View attached media content

- Swami Prasad Maurya (@SwamiPMaurya) 14 Jan 2022

Koo App

स्वामी प्रसाद मौर्या,धर्म सिंह सैनी सपा प्रमुख अखिलेश यादव जी की मौजूदगी में समर्थकों के साथ सपा में शामिल हुये।

View attached media content

- Kailash Nath Chaurasia (@kchaurasia) 14 Jan 2022

Koo App

स्वामी प्रसाद मौर्या,धर्म सिंह सैनी सपा प्रमुख अखिलेश यादव जी की मौजूदगी में समर्थकों के साथ सपा में शामिल हुये।

View attached media content

- Kailash Nath Chaurasia (@kchaurasia) 14 Jan 2022

Edited By: Jp Yadav