मदन पांचाल, गाजियाबाद

कोरोना महामारी के बीच शहर के अनेक दुकानदार प्रशासनिक अधिकारियों की आंखों में धूल झोंककर बीमारी बेच रहे हैं। पनीर, दूध, मिठाई, हल्दी, खोया, दाल ,मिर्ची, मसाले और आटा तक मिलावटी बेचा जा रहा है। दो सौ से अधिक नमूनों की जांच रिपोर्ट का इंतजार है। गली-मोहल्लों की दुकानों के अलावा प्रतिष्ठित संस्थानों पर भी मिलावटी सामग्री बेची जा रही है। पनीर, खोया, बेसन, बूंदी के लड्डू, छेना रसगुल्ला और कलाकंद तक मिलावटी बेचा जा रहा है। खाद्य सुरक्षा विभाग द्वारा अप्रैल 2020 से लेकर जुलाई 2021 के बीच ऐसे 110 मिलावटखोरों के खिलाफ जांच रिपोर्ट के आधार पर एडीएम कोर्ट में वाद दायर किए गए थे। एडीएम कोर्ट द्वारा इन मिलावटखोरों पर 56 लाख 50 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है। ------- इन मिलावटखोरों पर लगा जुर्माना

मैसर्स भवानी रोलर फ्लोर मिल मेरठ रोड, स्टैंडर्ड पनीर भंडार इंदिरापुरम, नौशाद भोजपुर, नालंदा बेकर्स साहिबाबाद, दिलशेर कलछीना, शेर सिंह डेयरी लोनी, बीकानेर स्वीट्स इंदिरापुरम, अग्रवाल स्वीट्स शालीमार गार्डन और राजेंद्र नगर सेक्टर-5, दिलशाद कलछीना, सुपर स्नैक्स मेरठ रोड, असलम भोजपुर, मुकेश पनीर भंडार शालीमार गार्डन, स्टैंडर्ड पनीर भंडार इंदिरापुरम, न्यू पूजा जनरल स्टोर राकेश मार्ग, रंजन कुमार विजयनगर, जेजेडी मोहननगर, न्यू देव सोया फूड प्रोडक्टस शास्त्रीनगर, स्टैंडर्ड स्वीट्स कार्नर गांधीनगर, राशिद कलछीना, केसी फ्लोर मिल, नरेश अग्रवाल, ओम मल्टी स्टोर राजनगर एक्सटेंशन

------ मिलावटी खाद्य पदार्थो की बिक्री के संभावित स्थल विजयनगर, साहिबाबाद, डासना, मसूरी, भोजपुर, लोनी, शालीमार गार्डन, शास्त्रीनगर, मुरादनगर, घंटाघर, सिहानी, मोरटा, संजयनगर, राजनगर, लालकुआं, ------ त्योहार पर बाजार की खाद्य सामग्री का सेवन करने से बचना चाहिए। मिलावटी खाद्य पदार्थो का सेवन करने से आंतों में संक्रमण होने की संभावना रहती है। फूड प्वाइजनिग होने पर जान को खतरा हो सकता है।

- डॉ. संगीता सिंह, प्रभारी नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र घूकना

----------------

जुलाई माह में 88 सैंपल एकत्र करके जांच को भेजे गए और 75 की रिपोर्ट आने पर 40 नमूने मानक के अनुरूप नहीं पाए गए। इनके खिलाफ वाद दायर किए जा रहे हैं। जुलाई में 34 मिलावटखोरों के खिलाफ सक्षम अदालतों में वाद दायर किए गए हैं।

- विनीत कुमार, जिला अभिहित अधिकारी

Edited By: Jagran