जासं, गाजियाबाद: मार्च 2022 से नोएडा में 90 एमएलडी और सिद्धार्थ विहार में 30 एमएलडी गंगाजल की आपूर्ति और होने लगेगी। इसके लिए सिद्धार्थ विहार में 304 करोड़ रुपये की लागत से जल निगम द्वारा तैयार किए जा रहे प्लांट का कार्य 65 फीसद पूरा हो गया है। डासना से कुशलिया के बीच साढ़े पांच किलोमीटर तक पाइपलाइन डालने का कार्य बाकी है, जिसे जनवरी 2022 तक पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

2018 में शुरू हुई इस योजना के तहत पहले दिसंबर 2021 में गंगाजल आपूर्ति की तैयारी की गई थी, कोरोना के कारण कार्य प्रभावित हुआ तो इसमें तीन महीने की देरी हुई है। सिद्धार्थ विहार से डासना तक एनएच-नौ के किनारे पाइपलाइन डालने का कार्य किया जा चुका है। जल निगम के प्रोजेक्ट मैनेजर शुभेंद्र चौधरी ने बताया की वर्तमान में सिद्धार्थ विहार में गंगाजल की आपूर्ति के लिए दो प्लांट संचालित किए जा रहे हैं। जिनमें से एक की क्षमता 245 एमएलडी और दूसरे की क्षमता 120 एमएलडी है। 245 एमएलडी गंगाजल नोएडा में और 120 एमएलडी गंगाजल की आपूर्ति गाजियाबाद के वसुंधरा जोन और सिद्धार्थ विहार में की जाती है। सिद्धार्थ विहार में कुल 12 एमएलडी पानी की आपूर्ति होती है, जबकि वहां पर बसावट में तेजी आने के बाद मांग बढ़ रही थी। आवास विकास परिषद ने यहां पर एक और प्लांट का निर्माण कार्य कराकर 30 एमएलडी गंगाजल की आपूर्ति बढ़ाने के लिए 76 करोड़ रुपये और नोएडा प्राधिकरण ने 90 एमएलडी गंगाजल की आपूर्ति के लिए 228 करोड़ रुपये जल निगम को दिए हैं।

Edited By: Jagran