मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

फीरोजाबाद,जागरण संवाददाता। करोड़ों की लागत से बने मुस्तफाबाद एटा अवागढ़ मार्ग पर पैदल चलना भी मुश्किल हो गया है। कुछ जगह तो सड़क नजर ही नहीं आती। वहां ऊबड़ खाबड़ कच्चा रास्ता से दिखाई देता है। नोटिस के बाद भी ठेकेदार ने मरम्मत कराने की जरूरत नहीं समझी है। सोमवार को लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता ने निरीक्षण बार रिपोर्ट डीएम को भेजी है।

इसे ठेकेदार की दबंगई ही कहेंगे कि अनुरक्षण (मरम्मत) अवधि में होने के बाद भी सड़क की मरम्मत नहीं कराई। इस कारण सड़क अब पूरी तरह खराब हो चुकी है। 3.5 मीटर चौड़ी और नौ किलोमीटर लंबी इस सड़क का निर्माण 2015-16 में किया गया था। सूत्रों के मुताबिक एक साल बाद ही सड़क खराब होना शुरू हो गई थी, लेकिन अधिकारियों ने ध्यान नहीं दिया। ग्रामीणों ने शिकायतें करना शुरू किया तो अधिकारियों ने मैनपुरी की कंस्ट्रक्शन कंपनी एसपीएस कॉरपोरेशन को नोटिस भेजे। इसके बाद भी मरम्मत नहीं कराई। 29 मार्च को डीएम सेल्वा कुमारी जे ने सभी मार्गाें को दुरुस्त कराने के निर्देश दिए।

सोमवार को एक्सइएन श्रीराज ने इस सड़क का निरीक्षण किया तो हालात देख हैरान रह गए। उन्होंने ठेकेदार पर कार्रवाई के लिए डीएम को रिपोर्ट भेजी है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप