संवाद सहयोगी, टूंडला: जिसने साथ जीने-मरने की कसमें खाई, सुरक्षा का वचन दिया। शराब के लिए रुपये न देने पर वही शैतान बन गया। पति ने पत्नी को पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया। घटना के बाद आरोपित पति मौके से फरार हो गया।

32 वर्षीय शकुंतला देवी पुत्री रामसनेही निवासी माली पट्टी थाना बसई मुहम्मदपुर की शादी करीब 12 वर्ष पूर्व थाना नगला सिघी क्षेत्र के गांव ठार गंगाराम निवासी सत्यपाल सिंह निषाद पुत्र चुन्नीलाल से हुई थी। शुक्रवार शाम शकुंतला ने घर पर मीट बनाया था। शाम करीब पांच बजे सत्यपाल घर पहुंचा और शराब लाने को रुपये मांगने लगा। पत्नी ने रुपये देने से इन्कार कर दिया, जिसको लेकर दोनों के बीच विवाद शुरू हो गया। रुपये न देने पर उसने पत्नी को पीटना शुरू कर दिया। उसे इस कदर पीटा कि उसकी हालत बिगड़ गई। घटना के बाद वह फरार हो गया। शोर सुनकर परिजन पहुंचे और गंभीर शकुंतला को आगरा ले गए। डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मायका पक्ष के लोग भी मौके पर पहुंच गए। घर की जांच करने के बाद पुलिस ने ताला लगा दिया।

मृतका ने अपने पीछे आठ वर्षीय खुशबू, छह वर्षीय आशीष, चार वर्षीय सुनील व डेढ़ साल की सिमरन को रोते बिलखते छोड़ा है। थानाध्यक्ष प्रदीप चतुर्वेदी का कहना है कि मायका पक्ष के लोग पीट-पीटकर हत्या करने का आरोप लगा रहे हैं। अभी तक कोई तहरीर नहीं आई है। इंसेट

दो घंटे पहले ही पुत्री से मिलकर गए थे पिता

मृतका के पिता रामसनेही घटना से दो घंटे पहले ही पुत्री से मिलकर गांव वापस लौटे थे। वह माता सीयर देवी के दर्शन करने आए थे। पुत्री से मिलने के बाद वह घर भी नहीं पहुंच पाए थे कि इसी बीच पुत्री की मौत की खबर उन्हें मोबाइल पर मिल गई। बच्चों को परिजन अपने साथ ले गए।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran