बागपत, जेएनएन। उत्तर प्रदेश परिवहन निगम की 22 बसें रोडवेज डिपो में खड़ी हुई हैं। अधिकारियों का कहना है कि क्षेत्रीय कार्यशाला से बसों के टायर नहीं आ रहे हैं, जिससे बसें खड़ी हुई हैं। इससे न केवल निगम को लाखों रुपये का घाटा हो रहा है, बल्कि सड़कों पर भी बसों का अभाव हो रहा है

बड़ौत रोडवेज डिपो की बसें दिल्ली, उत्तराखंड, लखनऊ आदि स्थानों तक दौड़ती हैं, लेकिन पिछले कुछ दिनों से निगम की 22 बसों का संचालन इसलिए नहीं हो रहा है कि उनके टायर बेकार हो गए हैं। बसों से टायर उतारकर वर्कशाप में रखे गए हैं और नए टायरों की मांग की गई है, लेकिन अभी तक क्षेत्रीय कार्यशाला मेरठ से टायर नहीं आ रहे हैं। वहां भी टायरों की कमी हो रही है। इससे न केवल निगम को हर रोज कई लाख रुपये का घाटा हो रहा है ,बल्कि सड़कों पर बसों के अभाव में यात्रियों को भी परेशानी हो रही है।

एआरएम वीपी अग्रवाल ने बताया कि डिपो में निगम की 70 बसें हैं, जिनमें से 22 बसों के टायर खराब हो गए हैं। क्षेत्रीय कार्यशाला से मांग की गई है। यह भी बताया कि कुछ टायर आ गए हैं, जिन्हें बसों में लगाकर उनका संचालन कराया जाएगा। खड़े रहे हैं काफी देर तक

विपिन, नीतू, पंकज, सचिन आदि यात्रियों ने बताया कि रोडवेज डिपो में बसों की कमी के कारण यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। यात्रियों ने एआरएम से बसों में टायर डलवाकर उन्हें सड़कों पर चलवाने की मांग की है।

Edited By: Jagran