संवाद सहयोगी, टूंडला: शासन ने नगर पालिका टूंडला की ग्रांट में कटौती करते हुए आधा कर दिया है। ऐसे में नगर पालिका को चलाना अधिकरियों के सामने चुनौती भरा होगा। पालिका प्रशासन अब संविदा कर्मचारियों को हटाने की योजना तैयार करने में जुट गया है।

कुछ समय पूर्व शासन ने फीरोजाबाद नगर निगम की ग्रांट में कटौती की थी। इसको लेकर पार्षदों ने विरोध प्रदर्शन किया था। अब शासन ने नगर निगम की ग्रांट को बढ़ाते हुए नगर पालिका परिषद टूंडला की ग्रांट में 50 फीसद कटौती की है। इस कटौती से सफाई व्यवस्था का कार्य कराना मुश्किल हो जाएगा। पालिका अधिकारी भी बेचैन हैं। पालिका में अब तक एक करोड़ 20 लाख की ग्रांट शासन से आती थी। इसमें से शासन ने 60 लाख की कटौती कर दी है। सूत्रों के अनुसार इतनी राशि तो कर्मचारियों के वेतन पर ही खर्च होती है। ऐसी स्थिति में पालिका प्रशासन संविदा कर्मचारियों की सेवा समाप्त करने की तैयारी कर रहा है। संविदा कर्मचारियों के हटने के बाद नगर की सफाई व्यवस्था ध्वस्त हो जाएगी। डोर-टू-डोर कूड़ा उठाने वाले कर्मचारियों को हटाने के आदेश जारी कर दिए गए हैं।

शासन ने ग्रांट में कटौती करते हुए आधा कर दिया है। ऐसे में पालिका का खर्च चलाना बहुत मुश्किल हो जाएगा। ऐसे में संविदा कर्मचारियों की सेवा समाप्त की जाएगी। अन्य अतिरिक्त खर्चो पर भी रोक लगाई जाएगी।

रामबहादुर चक, पालिकाध्यक्ष टूंडला

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस