मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, फीरोजाबाद: शनिवार रात आंधी और बारिश के रूप में पड़ी कुदरत की मार से किसान टेंशन में आ गए हैं। गेहूं और जौ की फसल को सर्वाधिक नुकसान पहुंचा है। जसराना और टूंडला समेत तमाम इलाकों में फसलें खेत में ही बिछ गईं हैं। कृषि विभाग के कर्मचारियों ने रविवार को किसानों से बात कर फसलों के नुकसान का जायजा लिया। शहर और ग्रामीण क्षेत्रों के कई इलाकों में पूरी रात बिजली गायब रही।

आंधी-बारिश से सर्वाधिक नुकसान गेहूं व जौ की फसल को हुआ, लेकिन पिछाई आलू व लहसुन की फसलें भी प्रभावित हुई हैं। जसराना समेत कुछ स्थानों पर आलू अभी खेतों से बाहर नहीं निकल सका है। लहसुन के फसल की ऊपरी परत खराब हो गई है। जसराना के गांव नगला मनी निवासी राजेन्द्र सिंह ने बताया कि बारिश व ओलावृष्टि से लहसुन फसल की ऊपरी परत खराब हो गई है। घाघऊ खुर्द निवासी जसवंत सिंह ने गेहूं की फसल के बर्बाद होने की जानकारी दी है। एका और खैरगढ़ में भी फसलें बर्बाद हो गई हैं। कृषि उपनिदेशक हंसराज ने बताया कि इस आपदा से दस फीसद फसलों को नुकसान पहुंचने की बात किसानों ने बतायी है। आलू दागी होने से नहीं मिल पाएगा अच्छा भाव

बारिश और ओलावृष्टि की वजह से खेतों में आलू का रंग दागी यानी काला पड़ जाएगा। इससे किसानों को बाजार में आलू के अच्छे भाव नहीं मिल पाएंगे और घाटा सहन करना पड़ेगा। फॉल्ट से पूरी रात गायब रही बिजली

आंधी-बूंदाबादी के दौरान शिकोहाबाद, पचोखरा, मटसेना, आइवे स्कूल, लोहारी और कोटला रोड समेत तमाम शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों की लाइन में फॉल्ट आ गया। इस कारण बस स्टैंड, एसएन रोड, स्टेशन रोड, लेबर कॉलोनी, आर्यनगर समेत शहर के 75 फीसद इलाकों की बिजली आधी रात तक गायब रही। जसराना क्षेत्र में आठ बजे गुल सप्लाई बीती रात एक बजे आई। शिकोहाबाद में डाहिनी की पुलिया, माधोगंज और स्टेशन रोड पर हाईटेंशन लाइन का खंभा टूट गया। इससे पूरा कस्बा पूरी रात अंधेरे में डूबा रहा। रविवार सुबह भी हाईटेंशन लाइन में फॉल्ट आने से पुरुषोत्तम विहार, यूपीएसआइडीसी और औद्योगिक क्षेत्र सब स्टेशन से जुड़े नगला मिर्जा, कोहिनूर रोड, इंदिरा नगर समेत तमाम इलाकों की सप्लाई दोपहर तीन बजे तक गायब रही।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप