जागरण संवाददाता, फीरोजाबाद: कोरोना की तेज चाल को थामने के लिए सुहागनगरी ने वीकेंड लाकडाउन का पूरा पालन किया। रविवार को बाजारों में सन्नाटा पसरा रहा। पुलिस की कम उपस्थिति के बाद भी हाईवे और सड़कों पर जरूरतमंद लोगों की ही आवाजाही दिखी। बाकी लोग शनिवार रात से घरों में ही रहे।

हम सब की लापरवाही ने एक साल 22 दिन बाद फिर से लाकडाउन की बंदिश झेलने पर मजबूर कर दिया। पिछले साल 25 मार्च को पहला लाकडाउन लगा था। इस साल अप्रैल से दिन दूनी, रात चौगुनी रफ्तार से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण पर लगाम लगाने के लिए सरकार को फिर से ऐसी बंदिशें लगाने के लिए मजबूर होना पड़ा। गनीमत ये हैं कि फिलहाल इसे हर सप्ताह 35 घंटे के लिए लागू किया गया है। जो हर शनिवार रात आठ से सोमवार सुबह सात बजे तक प्रभावी रहेगी।

शनिवार को रात नौ बजे तक शहर से लेकर देहात तक बाजार बंद हो गए थे। इसके बाद रविवार को भी नहीं खुले। कारखाने, दूध और दवा की दुकानों को छोड़कर सभी तरह के बाजार पूरी तरह बंद रहे। चाय और पान के खोखे भी नहीं खुले थे। हर समय भरा रहने वाले सदर बाजार में सन्नाटा पसरा रहा। सुभाष तिराहा पर वाहनों और लोगों की आवाजाही भी बहुत कम थी। यहां दूसरे जिलों में जाने वाले लोग वाहनों के इंतजार में खड़े दिखाई दिए।

गली मुहल्लों की अधिकांश दुकानें भी बंद रहीं। लोगों ने खुद भी संयम का परिचय दिया। रविवार का दिन उन्होंने परिवार के साथ घर में बिताया। दुकानें अब सोमवार सुबह सात बजे और बाजार अपने समय पर खुलेंगे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप