टूंडला, (फीरोजाबाद) संवाद सहयोगी, जिले के एक मात्र क्लस्टर गांव रूधऊ मुस्तकिल में समस्याओं का अंबार है। गांव तक पहुंचने के लिए न रास्ता है और न पीने को पानी। गांव में गंदगी से जूझ रहे ग्रामीणों ने मंगलवार को गांव में नेताओं के खिलाफ बैनर लगा दिए। ग्रामीण गांव में विकास कार्य कराने की मांग कर रहे हैं।

तहसील से करीब सात किलोमीटर दूर स्थित क्लस्टर गांव रूधऊ मुस्तकिल के ग्रामीण विभिन्न समस्याओं को लेकर परेशान हैं। पंचायत के गांव नगला केशोराय से रूधऊ तक जाने वाले मार्ग पर जलभराव की स्थिति है। मुख्य मार्ग दलदल के रूप में तब्दील हो गया है। जरा सी बारिश होने पर घरों में पानी भर जाता है। जगह-जगह गंदगी के अंबार लगे हैं। कई बार शिकायत करने के बाद भी समस्याओं की ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। रात्रि के समय दलदल में फंसकर बाइक सवार चोटिल हो जाते हैं। ग्रामीणों ने गांव में गंदे पानी की निकासी के लिए अधूरे पड़े नाले को बनवाने की मांग की थी, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। ग्रामीणों का आरोप है कि प्रत्याशी वोट लेकर लौटकर नहीं आते। ग्रामीण परेशानियों से जूझ रहे हैं। समस्याओं का समाधान नहीं हुआ तो मजबूरन आंदोलन के लिए बाध्य होना पड़ेगा। प्रदर्शन करने वालों में देवदत्त दीक्षित, आशा कुशवाह, हेमलता, पुष्पा बघेल, हंसराज ओमवती आदि प्रमुख हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप