फीरोजाबाद,जागरण संवाददाता। डकैती की वारदात में वांछित हिस्ट्रीशीटर ने घिरने के बाद पुलिस के पसीने छुड़ा दिए। कनपटी पर तमंचा लगा लिया और पकड़ने पर गोली से खुद को उड़ाने की धमकी दी। लगभग डेढ़ घंटे तक ड्रामा चला। आखिर में हिस्ट्रीशीटर पैर में गोली लगने से गिर पड़ा। पुलिस का कहना है कि हिस्ट्रीशीटर ने खुद पैर में गोली मारी है, जबकि वह पुलिस पर आरोप लगा रहा है। उसे ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया है।

बसई मोहम्मदपुर के नगला दया निवासी रामवीर सिंह (35) पुत्र राम सिंह जनवरी में छारबाग में दिनेश के यहां पड़ी डकैती की वारदात में वांछित था। वारदात के चार आरोपित पहले से ही जेल में हैं, जबकि रामवीर फरार था। सोमवार दोपहर उसके घर पर होने की सूचना पाकर लाइनपार पुलिस दबिश देने जा रही थी। हिस्ट्रीशीटर रामवीर गांव के बाहर सत्यप्रकाश के ट्यूबवेल पर जुआ खेल रहा था। पुलिस को देख वह भागने लगा। चारों तरफ से घिरता देख उसने कमर से तमंचा निकाला और कनपटी पर लगाकर खुद को उड़ाने की धमकी दी। इंस्पेक्टर लाइनपार संजय सिंह के मुताबिक उसे समझाने की कोशिश की। कुछ देर बातचीत के बाद उसने तमंचा कमर पर लगा लिया और लगातार धमकी देता रहा। पुलिस ने पीछे से आगे बढ़ने की कोशिश की तो उसने अपने पैर में गोली मार ली। पुलिस ने तमंचा बरामद कर लिया है। इंस्पेक्टर ने बताया कि उसके खिलाफ धारा 307 और लूट-डकैती समेत सात से अधिक मुकदमे लाइनपार और बसई मोहम्मदपुर थाने में दर्ज हैं। हिस्ट्रीशीटर को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। दूसरी तरफ हिस्ट्रीशीटर ने बताया कि उसे गोली पुलिस ने मारी है। - दो दिन पहले से थी पुलिस की निगाह:

पुलिस की हिस्ट्रीशीटर पर दो दिन से निगाह थी। बाइक चोरी के एक मामले में रामवीर के साथी नगला दया निवासी नीरज को गिरफ्तार किया गया था। इंस्पेक्टर बसई मोहम्मदपुर अनिल कुमार ने बताया कि नीरज ने रामवीर का नाम भी बताया था। पुलिस उसे पकड़ने नगला दया गई, लेकिन वह भाग गया।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस