जागरण टीम फतेहपुर : मलेरिया और डेंगू का बुखार अब कहर बन चुका है। बुधवार को बुखार से जीत का डेरा मजरे सरकंडी निवासी 70 वर्षीय बब्बू सिंह और पुर बुजुर्ग गांव निवासी 62 वर्षीय हुबलाल की मौत हो गई। उधर, सरकारी तौर पर चार लोगों और निजी पैथालाजी की रिपोर्ट में मां-बेटी पर डेंगू की पुष्टि हुई है। बढ़ती बीमारी को रोकने के लिए स्वास्थ्य व सफाई टीमें गांव-गांव दौड़ी है, लेकिन रोकथाम के प्रयास सफल साबित नहीं हो रहे हैं।

अमौली ब्लाक के भगलापुर गांव निवासी संतराम की 40 वर्षीय पत्नी मिथलेश और 15 वर्षीय बेटी मधू को एक सप्ताह से बुखार आ रहा था। पहले गांव स्तर पर उपचार कराया, लेकिन राहत नहीं मिली। अब संतराम ने मां-बेटी को हमीरपुर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया है। जहां निजी पैथालाजी की रिपोर्ट में दोनों को डेंगू बताया गया है। हालांकि, दोनों मामलों की सरकारी पुष्टि नहीं हैं। अमौली सीएचसी के प्रभारी ने कहा कि जब तक उनके पास अधिकृत रिपोर्ट नहीं आती वह डेंगू नहीं मानेंगे, लेकिन सतर्कता की ²ष्टि में टीम भेजकर दवाएं बंटवाई गई हैं। उधर असोथर ब्लाक के 45 गांव सभाओं में बुधवार को घर-घर सर्वे कराया गया, जिसमें अकेले इस ब्लाक में 246 लोग बुखार से पीड़ित मिले हैं। असोथर पीएचसी प्रभारी ने आशा बहुओं को बीमार पाए लोगों को दवा किट बांटने का निर्देश दिया है। इसी तरह जिले में चार डेंगू पीड़ित पाए गए हैं। जिनकी पुष्टि प्रशासन ने की और प्रभावितों के गांवों में टीमें भेजकर दवा का छिड़काव कराया। बदलेवा डेरा मजरे सरकंडी निवासी 46 वर्षीय बाबूलाल की हालत बिगड़ने पर एक निजी नर्सिंग होम में भर्ती कराया है, जहां उसकी प्लेटलेट्स बेहद कम बताई जा रही हैं। 10-10 नमूने लिए और कराई फागिग

जिले में बुधवार को कुल चार डेंगू पीड़ितों पर डेंगू की पुष्टि कानपुर मेडिकल कालेज ने की है। इसके बाद डिप्टी सीएमओ डा. केके श्रीवास्तव की देखरेख में इन गांवों में टीमें भेजकर निरोधात्मक कार्रवाई में पैराथ्रम का छिड़काव व फागिग कराई गई है। इन गांवों में दस-दस डेंगू के नमूने भी लिए गए हैं। खलील नगर, आवास विकास में सफाई

शहर में डेंगू और मलेरिया की रोकथाम के लिए बुधवार को विशेष सफाई अभियान चलाया गया। खलील नगर व आवास विकास में नालियों की सफाई सफाई निरीक्षक राकेश गौड़ व हबीब की अगुवाई में 25 सफाई कर्मचारियों की टीम ने नालियों में दवाएं डाली। खलील नगर में जल भराव खत्म कराने के लिए काम किया। शाम को नगर पालिका ने उपरोक्त दोनों मोहल्लों में मच्छरों को खत्म करने के लिए फागिग भी कराई। रिठवां समेत कई गांवों लगीं टीमें

बुधवार को प्रभारी मलेरिया अधिकारी कृति रंजन की देखरेख में अब्दुल्लापुर, बिलारी मऊ, छिछनी, गंभीरी, हिम्मतपुर में स्वास्थ्य व सफाई टीमें पहुंची। यहां बुखार पीड़ितों की जांच करने के साथ विशेष सफाई की गई। नालियों का छिड़काव हुआ। कैंप लगाकर लोगों को दवाएं बांटी गई। बुधवार को कहां कहां मिले डेंगू के अधिकृत केस

मरीज का नाम--------------गांव का नाम-------आयु

राम भवन पुत्र घासी-------अब्दुल्लापुर----------80 वर्ष

रामा पत्नी भगवत प्रसाद--हिम्मतपुर-----------55 वर्ष

मंजू पत्नी अमर सिंह--------गंभीरी भिटौरा-----40 वर्ष

रितेश पुत्र संतोष------------छिछनी हसवा-----20 वर्ष

--------------------

Edited By: Jagran