जागरण संवाददाता, फतेहपुर : उप्र माध्यमिक शिक्षक संघ (माशिसं) के बैनर तले शनिवार को कैंडल मार्च निकाला गया। सड़कों पर नारेबाजी करते हुए सरकार को ऊपर गुस्सा निकाला। लंबित समस्याओं को उजागर करते हुए तख्तियां लेकर सड़कों में घूमे। संगठन ने कहा, तरीके से विरोध किया गया है आने वाले समय में आंदोलन को और मुखर बनाया जाएगा।

संगठन के प्रांतीय आह्वान पर जिलाध्यक्ष आलोक शुक्ला और मंत्री पुष्पराज सिंह, कोषाध्यक्ष छोटेलाल साहनी के निर्देश पर संगठन के पदाधिकारी और शिक्षक शहर के विद्यार्थी चौराहे पर जुटे। विरोध करते हुए हाथों में कैंडल लेकर कलेक्ट्रेट पहुंचे। यहां लंबित मांगों को पूरा करने की आवाज बुलंद की। 18 सूत्रीय मांग पत्र में पुरानी पेंशन बहाली, वित्तविहीन शिक्षकों की नियमावली बनाई जाए, सहायता प्राप्त विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों को निश्शुलल्क चिकित्सा सुविधा प्रदान की जाए, सर्वविदित है कि महंगाई सिर चढ़कर बोल रही है, राहत दी जाए और भत्ते दिए जाएं। व्यावसायिक एवं कंप्यूटर शिक्षकों को समान कार्य समान भुगतान किया जाए। चयन बोर्ड की धारा 21 को पूर्ववत लागू किया जाए जैसी मांगे प्रमुख रही हैं। इस मौके पर कमल सिंह चौहान, अतुल सिंह यादव, निधि सक्सेना, अनुज त्रिवेदी, फारूख, विनोद चौधरी, अरुण, महेंद्र, भानु प्रताप आदि रहे।

Edited By: Jagran